NationalSports

एक जिला एक स्टेडियम के जरिए “खेलेगा यूपी, जीतेगा यूपी” नारे को साकार करेगी योगी सरकार

  • चार जिलों (संभल, चंदौली, हापुड़ व शामली) में शीघ्र ही होगा सरकारी स्टेडियम
  • खेल, खिलाड़ी और पदक विजेताओं को निखारने के लिए प्रयत्नशील है योगी सरकार

– गिरीश पांडेय

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का फिट इंडिया पर जोर है। शारीरिक ही नहीं, मानसिक रूप से भी फिट रहने में खेलों की बेहद महत्वपूर्ण भूमिका है। बच्चे एवं युवा अपनी रुचि के अनुसार खेल सकें। इसके लिए सबसे बुनियादी जरूरत होती है, स्टेडियम एवं खेल प्रतिभाओं को निखारने के लिए प्रशिक्षकों की। पीएम की फिट इंडिया की मंशा के अनुरूप मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार “खेलेगा यूपी तो जीतेगा यूपी” नारे को साकार करने के लिए इस पर पूरी तरह से ध्यान फोकस कर रही है।

फिलहाल अब तक प्रदेश के चार (संभल, चंदौली, हापुड़ व शामली) जिले ऐसे थे, जिनमें सरकारी स्टेडियम नहीं था। बुधवार को कैबिनेट की बैठक में संभल के चंदौसी तहसील के भरतरा गांव में क्रिकेट स्टेडियम स्टेडियम के प्रस्ताव को मंजूरी मिल गई। जिला प्रशासन इस बाबत युवा कल्याण विभाग को निःशुल्क भूमि उपलब्ध कराएगा। इसी तरह चंदौली में स्टेडियम के बाबत जमीन देने के लिए पशुपालन विभाग मौखिक रूप से सहमत हो गया है। बाकी जिलों में भी जमीन चिह्नित कर ली गई है।

शीघ्र ही इन्हें स्थानांतरित करने की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। इसके बाद शासन के समक्ष इनके निर्माण के बाबत विशेषज्ञ प्रस्तुतिकरण देंगे। खेल विभाग के अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल के अनुसार पूरा प्रयास होगा कि इसी साल इन सबका निर्माण कार्य भी शुरू हो जाय। यही नहीं विभाग के जो काम लंबे समय से निर्माणाधीन हैं, वे भी शीघ्र पूरे हों। एसीएस स्तर से लगातार इसकी भी मॉनीटरिंग हो रही है। अयोध्या में निर्माणाधीन अंतराष्ट्रीय स्तर के स्टेडियम, सहारनपुर का खेल छात्रावास व लखनऊ के स्पोर्ट्स हॉस्टल में वेलोड्रम ( सायकल ट्रैक ) आदि पर भी नजर है।

गांव, ब्लॉक और जिलास्तर पर बनेंगे खेल मैदान व स्टेडियम, एक जिला, एक खेल योजना पर भी चल रहा काम

उल्लेखनीय है कि योगी सरकार खेलों को लेकर बेहद संजीदा है। मुख्यमंत्री चाहते हैं कि राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं में आबादी के अनुसार ही यूपी का भी प्रतिनिधित्व हो। प्रदेश की खेल प्रतिभाओं को स्थानीय स्तर पर जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराकर बचपन से ही उन्हें निखारने का प्रयास हो रहा है। गाँव से लेकर ब्लॉक व जिला स्तर पर लोकप्रिय खेलों के लिए जरूरी बुनियादी सुविधाएं व संसाधन उपलब्ध कराने, समय-समय पर प्रदेश, राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय खेलों के स्तर पर प्रतिभा दिखाने वाले खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के पीछे भी सरकार की यही मंशा है। हर गांव में खेल मैदान, ब्लॉक मुख्यालय पर मिनी स्टेडियम, एक जिला, एक खेल-खेलो इंडिया सेंटर और गोरखपुर मंडल में वर्ल्डक्लास स्पोर्ट्स सिटी बनाने के प्रस्ताव के पीछे भी सरकार की यही धारणा है।

दूर होगी प्रशिक्षकों की कमी

खेलों के लिए बुनियादी सुविधाएं विकसित करने के साथ स्थानीय स्तर पर खेल प्रतिभाओं को निखारने के लिए प्रशिक्षण पर भी बराबर का जोर है। इसके लिए प्रशिक्षकों की नियुक्ति की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। सूबे में अब प्रशिक्षकों की कमी दूर करने का पूरा खाका तैयार कर लिया गया है।

खिलाड़ियों की हौसलाअफजाई का हरसंभव प्रयास करते हैं योगी

जहाँ तक खिलाड़ियों के हौसलाअफजाई की बात है तो इसके लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद हरसंभव प्रयास करते हैं। चंद रोज पूर्व उन्होंने इसी मकसद से गुजरात के राष्ट्रीय खेल आयोजन में जाने वाले यूपी के खिलाड़ियों से मुलाकात भी की थी। लगे हाथ उन्होंने इनके लिए ट्रेन में एसी थ्री टीयर में यात्रा की भी सुविधा भी दे दी। इसके पहले अगस्त 2021 में खिलाड़ियों के सम्मान में ही यहां लखनऊ में मुख्यमंत्री की पहल पर खेल कुंभ का भी आयोजन हुआ था।

इसमें मुख्यमंत्री ने लखनऊ में खेल एकेडमी बनाने, कुश्ती समेत दो खेलों को एडॉप्ट करने व 10 साल तक इनके वित्त पोषण की भी घोषणा की थी। प्रदेश की खेल प्रतिभाओं की दक्षता बढ़े, इसके लिए मेरठ में हॉकी के जादूगर कहे जाने वाले मेजर ध्यानचंद के नाम से वैश्विक स्तर का खेल विश्वविद्यालय भी बन रहा है। सरकार इसी मकसद से पांच साल के लिए नई खेल नीति लाने की भी तैयारी कर रही है।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: