Astrology & Religion

बाबा विश्वनाथ के दरबार में पुराने रिकॉर्ड टूटे, 18 लाख लोगों ने किये बाबा के दर्शन

महाशिवरात्रि के मौके पर 18 लाख लोगों ने किये बाबा के दर्शन.योगी सरकार ने महाशिवरात्रि पर सोशल मीडिया पर लगातार 36 घंटो तक लाइव दर्शन कराया.ऑनलाइन सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर 6,37,278 बाबा के भक्तों ने महादेव का किया दर्शन.जबकि बाबा के दरबार में 1,155,924 लोगों में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है.

वाराणसी: भव्य व दिव्य श्री काशी विश्वनाथ मंदिर नित नए कीर्तिमान स्थापित कर रहा है। महाशिवरात्रि के मौके पर 1,793,202 लोगों ने बाबा के दर्शन किये है। योगी सरकार ने शिव भक्तो के लिए विश्वनाथ धाम में बाबा के दर्शन के लिए सुरक्षा और सुगमता से दर्शन की सभी व्यवस्था की थे। यही नहीं जो लोग बाबा के चौखट तक नहीं पहुंच पाए उनके लिए भी योगी सरकार ने सोशल मीडिया पर लगातार 36 घंटो तक लाइव दर्शन कराया। सोशल मीडिया पर 6,37,278 भक्तो ने देवाधिपति महादेव का दर्शन किये।जबकि बाबा के दरबार 1155924 श्रद्धालुओ ने हाज़िरी देकर दर्शन किया। इसके अलावा श्रद्धालुओं ने शहर में स्मार्ट सिटी द्वारा लगाए गए एलईडी स्क्रीन पर बाबा का दर्शन किये ।

महाशिवरात्रि में शिव भक्तों ने बाबा के दर्शन के पहले के सभी रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिए है।
श्री काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास के मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्री विश्व भूषण मिश्र ने बताया कि इस वर्ष महाशिवरात्रि में 1,793,202 लोगों ने बाबा का दर्शन किये है। उन्होंने ने बताया कि श्री काशी विश्वनाथ धाम में पहली बार शिवरात्रि के मौके पर 36 घंटो का लगातार सोशल मीडिया पर लाइव स्ट्रीमिंग की गई थी। ऑनलाइन के माध्यम से सोशल प्लेटफार्म पर 637,278 बाबा के भक्तों ने महादेव का दर्शन किया। जबकि बाबा के दरबार में 1,155,924 लोगों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है। इसके अलावा घाटों ,रेलवे स्टेशन और प्रमुख चौराहे पर स्मार्ट सिटी द्वारा लगाए गए एलईडी स्क्रीन पर भी लाखों भक्तों ने दर्शन किया है।

मंदिर प्रशासन के मुताबिक पिछले वर्ष 2023 में लगभग 8 लाख लोगो ने बाबा के दरबार में हाज़िरी लगाई थी। मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने बताया कि श्री काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास की योजना थी, की विश्व में कहीं भी बैठा शिवभक्त महाशिवरात्रि पर बाबा के दर्शन से वंचित न रह जाए इसके लिए मंदिर प्रशासन ने लाइव स्ट्रीमिंग का प्रबंध किया था।

VARANASI TRAVEL
SHREYAN FIRE TRAINING INSTITUTE VARANASI

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: