Politics

सैम पित्रोदा के बयान पर फिर विवाद, मचा सियासी बवाल

सैम पित्रोदा के बयान से किनारा किया कांग्रेस ने

नई दिल्ली । इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा के बयान पर फिर सियासी बवाल शुरू हो गया है। इसको लेकर बीजेपी ने कांग्रेस पर हमले तेज कर दिए हैं। दरअसल सैम पित्रोदा के एक वीडियो में बयान सामने आया है कि भारत में पूर्व में रहने वाले लोग चीन जैसे और साउथ इंडिया में रहने वाले अफ्रीकन जैसे दिखते हैं। उनके इस बयान को बीजेपी ने नस्लभेदी बताते हुए कांग्रेस पर हमला बोला है।

सैम पित्रोदा ने अपने बयान में कहा कि भारत जैसे विविधता वाले देश में सबलोग साथ रहते हैं। यहां पूर्वी भारत के लोग चीन जैसे, पश्चिमी भारत के लोग अरब जैसे, दक्षिण में रहने वाले अफ्रीकी जैसे दिखते हैं। इसके बावजूद हम मिलजुल कर रहते हैं।इस बयान को कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में और बीजेपी ने नस्लभेदी बताया। भाजपा नेता किरण रिजेजू ने कहा कि कांग्रेस के लोग देश को बांटना चाहते हैं और वे इसी तरह के बातें करते हैं। कांग्रेस को इस बयान से किनारा नहीं करना चाहिए बल्कि इस पर जवाब देना चाहिए।

इसी तरह असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा ने कहा कि सैम भाई मैं पूर्व में रहता हूं, लेकिन भारतीय जैसा दिखता हूं।इससे पहले पित्रोदा ने विरासत टैक्स का बयान दिया था, जिस पर भी बीजेपी ने कांग्रेस को आड़े हाथों लिया था। हालांकि पित्रोदा ने इस बयान को अपना निजी विचार बताया था। कांग्रेस ने भी इसको पित्रोदा का निजी विचार बताया था।(वीएनएस )

सैम पित्रोदा के बयान से किनारा किया कांग्रेस ने

कांग्रेस ने भारत की सामाजिक एवं सांस्कृतिक विविधता पर अपने सहयोगी संगठन ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्राेदा की आपत्तिजनक टिप्पणी से स्वयं को अलग कर लिया है।कांग्रेस के मीडिया प्रभारी जयराम रमेश ने बुधवार को यहां सोशल मीडिया पर जारी एक बयान में कहा कि कांग्रेस स्वयं को श्री पित्रोदा की टिप्पणी से अलग करती है।

उन्होंने कहा, “सैम पित्रोदा द्वारा भारत की विविधताओं को जो उपमाएँ दी गई हैं, वह अत्यंत गलत और अस्वीकार्य हैं। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस इन उपमाओं से अपने आप को पूर्ण रूप से अलग करती है।”श्री पित्रोदा को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के राजनीतिक गुरु और मार्गदर्शक माना जाता है। वह राजीव सरकार में प्रधानमंत्री के सलाहकार रहे हैं।(वार्ता)

VARANASI TRAVEL
SHREYAN FIRE TRAINING INSTITUTE VARANASI

Related Articles

Back to top button