State

पेमा खांडू ने ली अरुणाचल प्रदेश के सीएम पद की शपथ

भाजपा का मुख्य एजेंडा चुनावी घोषणा पत्र को पूरा करना होगा: पेमा खांडू

ईटानगर । भाजपा नेता पेमा खांडू ने एक बार फिर अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। वहीं, चाउना मीन ने प्रदेश के उपमुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। खांडू के साथ-साथ 11 अन्य विधायकों ने भी मंत्री पद की शपथ ली। राज्यपाल केटी परनाइक ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा सहित अन्य नेताओं की मौजूदगी में शपथ दिलाई। एक दिन पहले ही खांडू को सर्वसम्मति से भाजपा विधायक दल का नेता चुना गया था।

केंद्रीय प्रर्यवेक्षक भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद और तरुण चुघ बुधवार को ईटानगर पहुंचे थे। इस दौरान, उन्होंने भाजपा विधायक दल की बैठक बुलाई और विधायक दल का नेता चुना। शाम को खांडू चुघ और कई विधायकों के साथ राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल (सेनि) केटी परनायक से मुलाकात करने राजभवन पहुंचे। उन्होंने इस दौरान सरकार बनाने का दावा पेश किया। राज्यपाल ने खांडू और उनके मंत्रियों को शपथ ग्रहण के लिए आमंत्रित किया। चुघ ने राजभवन में मीडिया से बात की। इस दौरान उन्होंने कहा कि भाजपा प्रदेशाध्यक्ष बियुराम वाघ ने मुख्यमंत्री के रूप में खांडू के नाम का प्रस्ताव रखा था। पार्टी के सभी 46 विधायकों ने इसका समर्थन किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी के अध्यक्ष जेपी नड्डा की सराहना करते हुए, खांडू ने भाजपा में विश्वास जताने और उसे लगातार तीसरी बार सत्ता में लाने के लिए राज्य के लोगों को धन्यवाद दिया।

मोनपा जनजाति से ताल्लुक रखते हैं पेमा खांडू
पेमा खांडू का जन्म 21 अगस्त, 1979 को तवांग में हुआ था। चीन की सीमा से सटे तवांग जिले के ग्यांगखर गांव से ताल्लुक रखने वाले पेमा खांडू मोनपा जनजाति से आते हैं। उन्होंने तवांग के बोम्बा में सरकारी माध्यमिक विद्यालय में शिक्षा प्राप्त की। इसके बाद वर्ष 2000 में उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से कला स्नातक की उपाधि हासिल की। उच्च शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने राजनीति में कदम रखा।

ऐसे हुई राजनीतिक सफर की शुरुआत
यूं तो पेमा खांडू को राजनीति विरासत में ही मिली है। उनके पिता दोरजी खांडू अरुणाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री रह चुके हैं। 2005 में पेमा खांडू राजनीति में कदम रख दिया था, जब उन्हें प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव की जिम्मेदारी सौंपी गई। लेकिन, उनके असल राजनीतिक सफर की शुरुआत तब हुई, जब उनके पिता दोरजी खांडू का हेलिकॉप्टर हादसे में निधन हो गया। दोरजी खांडू 2007 से 2011 तक अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे थे। इसके बाद पेमा खांडू ने वर्ष 2011 में अपने ही पिता के विधानसभा क्षेत्र मुक्तो से चुनाव लड़ा और विजयी हुए। इसके बाद पेमा खांडू को अरुणाचल प्रदेश मंत्रिमंडल में शामिल किया गया। वर्ष 2014 में पूर्व मुख्यमंत्री नबाम तुकी के नेतृत्व वाली सरकार में पेमा खांडू को शहरी विकास मंत्री नियुक्त किया गया। इसके बाद उनके राजनीतिक जीवन में बड़ा मोड़ आया।

भारत के सबसे युवा मुख्यमंत्री रहे हैं पेमा खांडू
पेमा खांडू भारत के सबसे युवा मुख्यमंत्री हैं, जिन्होंने 37 साल की आयु में मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार संभाला। खांडू के पहले अखिलेश यादव ही भारत के सबसे कम आयु वाले मुख्यमंत्री थे। अखिलेश ने 38 वर्ष की उम्र में पहली बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की गद्दी संभाली थी।

फुटबॉल, क्रिकेट जैसे खेलों के शौकीन
पेमा खांडू खेलों के शौकीन हैं। फुटबॉल, क्रिकेट, बैडमिंटन और वॉलीबॉल जैसे खेलों में उनकी बड़ी दिलचस्पी है। उन्होंने राजनीति में आने के बाद उन्होंने खेलों को बढ़ावा देने के लिए खूब प्रयास किए। (वीएनएस)

अरुणाचल प्रदेश का सीएम बनने पर पेमा खांडू को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दी बधाई

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अरुणाचल प्रदेश में नवगठित सरकार में सीएम पद की शपथ लेने पर पेमा खांडू को शुभकामनाएं दी हैं। योगी आदित्यनाथ ने अपने ऑफिशियल एक्स हैंडल पर पोस्ट करते हुए विश्वास जताया है कि अरुणाचल प्रदेश में नई सरकार समृद्धि, विकास, सुशासन और जन कल्याण के नये मानदंड स्थापित करेगी।

सीएम योगी ने अरुणाचल के मुख्यमंत्री पेमा खांडू और उप मुख्यमंत्री चौना मीन को पदग्रहण करने की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल मार्गदर्शन में दोनों नेताओं का कार्यकाल सफल होगा और इनके नेतृत्व में राज्य समृद्धि, विकास, सुशासन और जन कल्याण के नए मानदंड स्थापित करेगा। योगी आदित्यनाथ ने दोनों नेताओं और अरुणाचल प्रदेश के समृद्ध भविष्य के लिए हार्दिक शुभकामनाएं दी हैं।

भाजपा का मुख्य एजेंडा चुनावी घोषणा पत्र को पूरा करना होगा: पेमा खांडू

अरुणाचल प्रदेश में लगातार तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद श्री पेमा खांडू ने गुरुवार को कहा कि उनकी सरकार का मुख्य एजेंडा उनकी पार्टी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के चुनाव घोषणापत्र में किए गए वादों को पूरा करना होगा।उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार पार्टी के चुनाव घोषणापत्र ‘संकल्प पत्र’ में किए गए सभी वादों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है। श्री खांडू ने कहा, “हम अपने लोगों के कल्याण और विकास के लिए चुनाव घोषणापत्र के आधार पर अगले पांच वर्षों में सरकार चलाएंगे।”उन्होंने पत्रकारों को बताया कि पहली कैबिनेट बैठक में योजना बनाई जाएगी और लक्ष्य तय किया जाएगा कि सरकार अपने पहले 100 दिनों में क्या काम करेगी।

श्री खांडू ने कहा कि पिछले 10 वर्षों के दौरान नरेन्द्र मोदी सरकार द्वारा उत्तर पूर्व और अरुणाचल प्रदेश में किए गए विकास कार्यों को देखकर लोगों ने भाजपा को सत्ता सौंपी है और विश्वास जताया है कि आने वाले दिनों में केंद्र सरकार का आशीर्वाद अरुणाचल प्रदेश पर बना रहेगा। उन्होंने लोगों से सरकार के साथ हाथ मिलाने और उसके विकास कार्यक्रमों में शामिल होने की अपील की।मुख्यमंत्री ने संकल्प लिया, “हम ‘टीम अरुणाचल’ की भावना से राज्य को विकास के मोर्चे पर नयी ऊंचाइयों पर ले जाएंगे।

”अपने मंत्रिमंडल में एक महिला विधायक को शामिल करने के सवाल पर श्री खांडू ने कहा, “आप सभी जानते हैं कि हम भाजपा में हमेशा महिला सशक्तीकरण के बारे में बात करते हैं। चूंकि संसद ने पिछली भाजपा के नेतृत्व वाली राजग सरकार द्वारा लाए गए महिला आरक्षण विधेयक, नारी शक्ति वंदन अधिनियम को पारित कर दिया है, कानून को 2029 तक लागू किया जाना है और इसी क्रम में अरुणाचल प्रदेश में भी विधानसभा में 33 प्रतिशत सीटें होंगी महिलाओं के लिए आरक्षण लागू किया जायेगा।

”उन्होंने कहा, “इसे ध्यान में रखते हुए, हमने एक महिला को कैबिनेट में शामिल किया है और यह संदेश देने की कोशिश की है कि महिलाओं को आने वाले दिनों में नेतृत्व संभालने के लिए तैयार रहना होगा।” मुख्यमंत्री ने यह भी बताया कि वह जल्द ही शपथ लेने वाले नए मंत्रियों के बीच विभागों का बंटवारा करेंगे।

Website Design Services Website Design Services - Infotech Evolution
SHREYAN FIRE TRAINING INSTITUTE VARANASI

Related Articles

Graphic Design & Advertisement Design
Back to top button