National

बच्चों की उपलब्धि को अपना विजिटिंग कार्ड ना बनाएं मां बाप : मोदी

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बच्चों को परीक्षा के तनाव से मुक्त करने में अभिभावकों एवं शिक्षकों की भूमिका रेखांकित करते हुए आज कहा कि मां बाप को अपने बच्चे की उपलब्धि को अपना विजिटिंग कार्ड नहीं बनाना चाहिए और शिक्षकों को अपना काम केवल जॉब नहीं बल्कि छात्रों के जीवन को संवारने की जिम्मेदारी समझना चाहिए।श्री मोदी ने यहां भारत मंडपम में परीक्षा पे चर्चा (पीपीसी) के 7वें संस्करण के दौरान छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों के साथ बातचीत करते हुए बच्चों को सीख दी कि वे अपने सहपाठियों एवं मित्रों से लेन-देन वाला व्यवहार नहीं रखें और उनकी उपलब्धियों की खुशियां मनायें और उससे खुद आगे बढ़ने की प्रेरणा लें। प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर प्रदर्शित कला और शिल्प प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया।

प्रधानमंत्री ने प्रदर्शनी में छात्रों द्वारा बनाई गई रचनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि ये प्रदर्शन दर्शाते हैं कि नई पीढ़ियां विभिन्न विषयों के बारे में क्या सोचती हैं और इन मुद्दों के लिए उनके पास क्या समाधान हैं। श्री मोदी ने छात्रों को आयोजन स्थल यानी भारत मंडपम के महत्व को समझाया और उन्हें जी20 शिखर सम्मेलन के बारे में बताया जहां दुनिया के सभी प्रमुख नेता इकट्ठे हुए और दुनिया के भविष्य पर चर्चा की।उन्होंने बाहरी दबाव और तनाव को लेकर ओमान के एक निजी सीबीएसई स्कूल से दानिया शब्बू और सरकारी स्कूल से मोहम्मद अर्श तथा दिल्ली में सर्वोदय बाल विद्यालय के छात्रों से संवाद करते हुए सांस्कृतिक और सामाजिक अपेक्षाओं जैसे बाहरी कारकों के कारण होने वाले दबाव एवं तनाव को कम करने के बारे में बात की।

उन्होंने छात्रों पर बाहरी कारकों के अतिरिक्त दबाव के प्रभाव को कम करने में शिक्षकों की भूमिका पर प्रकाश डाला और यह भी बताया कि माता-पिता ने समय-समय पर इसका अनुभव किया है। उन्होंने खुद को दबाव से निपटने में सक्षम बनाने और जीवन के एक हिस्से के रूप में इसके लिए तैयारी करने का सुझाव दिया। प्रधानमंत्री ने छात्रों से एक चरम जलवायु स्थिति से दूसरे तक यात्रा करने का उदाहरण देकर खुद को मानसिक रूप से तैयार करने का आग्रह किया जहां दिमाग पहले से ही चरम मौसम की स्थिति का सामना करने के लिए तैयार रहता है। उन्होंने तनाव के स्तर का आकलन करने और इसे धीरे-धीरे बढ़ाकर आगे बढ़ने का भी सुझाव दिया ताकि छात्र की क्षमता इससे प्रभावित न हो।

श्री मोदी ने छात्रों, परिवारों और शिक्षकों से एक व्यवस्थित सिद्धांत को लागू करने के बजाय प्रक्रिया को विकसित करते हुए सामूहिक रूप से बाहरी तनाव के मुद्दे को संबोधित करने का आग्रह किया। उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि छात्रों के परिवारों को उनमें से प्रत्येक के लिए काम करने वाले विभिन्न तरीकों पर चर्चा करनी चाहिए।साथियों का दबाव और दोस्तों के बीच प्रतिस्पर्धा के मुुद्दे पर अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के सरकारी प्रदर्शन बहुउद्देशीय स्कूल की भाग्य लक्ष्मी, गुजरात के जेएनवी पंचमहल की दृष्टि चौहान और केंद्रीय विद्यालय, कोझीकोड की स्वाति दिलीप के सवालों पर उन्होंने इस बात पर ज़ोर दिया कि प्रतिस्पर्धा स्वस्थ होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अक्सर अस्वस्थ प्रतिस्पर्धा के बीज पारिवारिक स्थितियों में बोए जाते हैं, जिससे भाई-बहनों के बीच विकृत प्रतिस्पर्धा पैदा होती है।

प्रधानमंत्री मोदी ने अभिभावकों से कहा कि वे बच्चों के बीच तुलना से बचें। प्रधानमंत्री ने एक वीडियो का उदाहरण दिया जहां बच्चे स्वस्थ तरीके से प्रतिस्पर्धा करते हुए एक-दूसरे की मदद करने को प्राथमिकता देते हैं। उन्होंने कहा कि परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करना कोई प्लस-माइनस का खेल नहीं है और प्रतिस्पर्धा स्वयं से होती है क्योंकि किसी मित्र द्वारा अच्छा प्रदर्शन क्षेत्र को अच्छा करने तक सीमित नहीं रखता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह प्रवृत्ति उन लोगों से मित्रता करने की प्रवृत्ति को जन्म दे सकती है जो प्रेरक नहीं होंगे। उन्होंने अभिभावकों से भी कहा कि वे अपने बच्चों की तुलना दूसरे बच्चों से न करें और ना ही अपने बच्चों की उपलब्धि को अपना विजिटिंग कार्ड बनाएं। श्री मोदी ने छात्रों से अपने दोस्तों की सफलता पर खुशी मनाने की नसीहत देते हुए कहा, “दोस्ती कोई लेन-देन वाली भावना नहीं है।

”छात्रों को प्रेरित करने में शिक्षकों की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए श्री मोदी ने जेडपी हाई स्कूल, उप्पारापल्ली, आंध्र प्रदेश के संगीत शिक्षक कोंडाकांची संपत राव और शिवसागर असम के शिक्षक बंटी मेडी के सवालों के जवाब दिए। उन्होंने रेखांकित किया कि संगीत में उन छात्रों के तनाव को दूर करने की क्षमता है जो न केवल एक कक्षा के बल्कि पूरे स्कूल के हैं। उन्होंने कक्षा के पहले दिन से लेकर परीक्षा के समय तक छात्र-शिक्षक सहयोग को धीरे-धीरे बढ़ाने पर जोर दिया और कहा कि इससे परीक्षा के दौरान तनाव पूरी तरह खत्म हो जाएगा। उन्होंने शिक्षकों से यह भी आग्रह किया कि वे पढ़ाए गए विषयों के आधार पर छात्रों से जुड़ने के बजाय उनके लिए अधिक सुलभ बनें। प्रधानमंत्री ने उन डॉक्टरों का उदाहरण देते हुए कहा जिनका अपने मरीजों के साथ व्यक्तिगत संबंध होता है, ऐसा बंधन आधे इलाज के समान होता है। उन्होंने परिवारों के साथ व्यक्तिगत जुड़ाव विकसित करने और उनसे पहले की उपलब्धियों के लिए छात्रों की सराहना करने का भी सुझाव दिया।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “शिक्षक नौकरी की भूमिका में नहीं हैं बल्कि वे छात्रों के जीवन को संवारने की जिम्मेदारी निभाते हैं।”परीक्षा के तनाव से निपटने के बारे में प्रणवंदा विद्या मंदिर, पश्चिम त्रिपुरा की अद्रिता चक्रवर्ती, जवाहर नवोदय विद्यालय, बस्तर, छत्तीसगढ़ के छात्र शेख तैफुर रहमान और आदर्श विद्यालय, कटक, ओडिशा की छात्रा राज्यलक्ष्मी आचार्य ने प्रधानमंत्री से सवाल पूछे। प्रधानमंत्री ने अभिभावकों के अति उत्साह या छात्रों की अति ईमानदारी के कारण होने वाली गलतियों से बचने की जरूरत पर जोर दिया। उन्होंने अभिभावकों से कहा कि वे परीक्षा के दिन को नए कपड़ों, रीति-रिवाजों या स्टेशनरी के नाम पर बढ़ा-चढ़ाकर पेश न करें। उन्होंने छात्रों से अंतिम क्षण तक तैयारी न करने और शांत मानसिकता के साथ परीक्षा देने और किसी भी बाहरी विनाश से बचने के लिए कहा जो अवांछित तनाव का कारण बन सकता है।

प्रधानमंत्री ने उन्हें अंतिम समय में घबराहट से बचने के लिए प्रश्न पत्र पढ़ने और समय आवंटन के साथ योजना बनाने की सलाह दी। प्रधानमंत्री ने छात्रों को याद दिलाया कि अधिकांश परीक्षाएं अभी भी लिखित होती हैं और कंप्यूटर और फोन के कारण लिखने की आदत कम हो रही है। उन्होंने उनसे लिखने की आदत बनाए रखने को कहा। उन्होंने उनसे अपने पढ़ने/पढ़ने के समय का 50 प्रतिशत लिखने में समर्पित करने को कहा। उन्होंने कहा कि जब आप कुछ लिखते हैं तभी आप उसे सही मायने में समझते हैं। उन्होंने उनसे अन्य छात्रों की गति से न घबराने को कहा।परीक्षा की तैयारी और स्वस्थ जीवनशैली बनाए रखने के बीच संतुलन को लेकर राजस्थान के छात्र धीरज सुभाष, लद्दाख में कारगिल के केंद्रीय विद्यालय की छात्रा नजमा खातून और अभिषेक कुमार तिवारी तथा अरुणाचल प्रदेश में सरकारी उच्चतर माध्यमिक के एक शिक्षक टोबी लहमे ने प्रधानमंत्री से व्यायाम के साथ-साथ पढ़ाई के प्रबंधन के बारे में पूछा।

प्रधानमंत्री ने शारीरिक स्वास्थ्य की देखभाल की आवश्यकता को दर्शाने के लिए मोबाइल फोन रिचार्ज करने की आवश्यकता का उल्लेख किया। उन्होंने संतुलित जीवनशैली बनाए रखने और हर चीज की अति से बचने को कहा। श्री मोदी ने कहा, “स्वस्थ शरीर स्वस्थ दिमाग के लिए महत्वपूर्ण है।” उन्होंने कहा कि स्वस्थ रहने के लिए कुछ दिनचर्या की आवश्यकता होती है और धूप में समय बिताने तथा नियमित और पूरी नींद लेने के बारे में पूछा। उन्होंने कहा कि स्क्रीन टाइम जैसी आदतें आवश्यक नींद को ख़त्म कर रही हैं जिसे आधुनिक स्वास्थ्य विज्ञान बहुत महत्वपूर्ण मानता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने अपने निजी जीवन में भी बिस्तर पर जाने के 30 सेकंड के भीतर गहरी नींद में जाने की व्यवस्था बना रखी है। उन्होंने कहा, “जागते समय पूरी तरह जागना और सोते समय गहरी नींद, एक संतुलन है जिसे हासिल किया जा सकता है।

” पोषण के बारे में बोलते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने संतुलित आहार पर जोर दिया। उन्होंने फिटनेस के लिए नियमित व्यायाम और शारीरिक गतिविधियों के महत्व पर भी जोर दिया।कैरिअर की प्रगति के बारे में पश्चिम बंगाल में बैरकपुर के केंद्रीय विद्यालय की मधुमिता मलिक और हरियाणा के पानीपत में द मिलेनियम स्कूल की अदिति तंवर द्वारा उठाए गए सवालों पर जानकारी देते हुए, प्रधानमंत्री ने करियर पथ के बारे में स्पष्टता प्राप्त करने और भ्रम और अनिर्णय से बचने का सुझाव दिया। स्वच्छता के बारे में प्रधानमंत्री श्री मोदी ने रेखांकित किया कि ‘स्वच्छता’ देश में प्राथमिकता वाला क्षेत्र बनता जा रहा है। उन्होंने कहा कि कला और संस्कृति क्षेत्र में भारत का बाजार पिछले 10 वर्षों में 250 गुना बढ़ गया है। प्रधानमंत्री मोदी ने छात्रों से खुद को कम न आंकने का आग्रह करते हुए कहा, “अगर हमारे पास क्षमता है, तो हम कुछ भी कर सकते हैं।

” उन्होंने पूरे समर्पण के साथ आगे बढ़ने का भी सुझाव दिया। राष्ट्रीय शिक्षा नीति के बारे में बोलते हुए, प्रधानमंत्री ने एक धारा से बंधे रहने के बजाय विभिन्न पाठ्यक्रमों को अपनाने के प्रावधानों पर प्रकाश डाला। उन्होंने इस अवसर पर प्रदर्शित प्रदर्शनी में छात्रों की भागीदारी, कौशल और समर्पण की सराहना की और रेखांकित किया कि सरकारी योजनाओं को संप्रेषित करने के लिए उनके द्वारा किया गया कार्य केन्द्र सरकार के सूचना प्रसारण मंत्रालय की तुलना में काफी बेहतर है। प्रधानमंत्री मोदी ने एक रेस्तरां में खाना ऑर्डर करने का उदाहरण देते हुए कहा, “भ्रम को खत्म करने के लिए हमें निर्णायक होना चाहिए जहां किसी को यह तय करना होता है कि क्या खाना है।” उन्होंने लिए जाने वाले निर्णयों की सकारात्मकता और नकारात्मकता का मूल्यांकन करने का भी सुझाव दिया।माता-पिता की भूमिका के बारे में सवालों पर प्रधानमंत्री ने परिवारों में विश्वास की कमी को छुआ और माता-पिता और शिक्षकों से इस गंभीर मुद्दे से निपटने के लिए कहा।

उन्होंने कहा कि यह कमी अचानक नहीं है बल्कि एक लंबी प्रक्रिया का परिणाम है और इसके लिए सभी के आचरण के गहन आत्म-विश्लेषण की आवश्यकता है, चाहे वह शिक्षक हों, माता-पिता हों या छात्र हों। उन्होंने कहा कि ईमानदार संवाद, विश्वास की कमी की संभावना को कम कर सकता है। विद्यार्थियों को अपने व्यवहार में ईमानदार एवं ईमानदार रहना चाहिए। इसी तरह माता-पिता को भी अपने बच्चों पर संदेह की बजाय विश्वास जताना चाहिए। विश्वास की कमी से बनी दूरी बच्चों को अवसाद में धकेल सकती है। प्रधानमंत्री ने शिक्षकों से छात्रों के साथ संवाद के रास्ते खुले रखने और पक्षपात से बचने को कहा। उन्होंने एक प्रयोग के लिए कहा और दोस्तों के परिवारों से नियमित रूप से मिलने और सकारात्मक चीजों पर चर्चा करने का अनुरोध किया जिससे बच्चों को मदद मिल सके।महाराष्ट्र में पुणे के एक अभिभावक चंद्रेश जैन ने छात्रों के जीवन में प्रौद्योगिकी की घुसपैठ का मुद्दा उठाया और झारखंड के रामगढ़ की एक अभिभावक कुमारी पूजा श्रीवास्तव ने सोशल मीडिया प्लेटफार्मों की प्रचुरता के साथ पढ़ाई के प्रबंधन के बारे में पूछा।

टीआर डीएवी स्कूल, कांगू, हमीरपुर, हिमाचल प्रदेश के छात्र अभिनव राणा ने छात्रों को परीक्षा के तनाव को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने के लिए शिक्षित करने और प्रोत्साहित करने के साथ-साथ सीखने के एक उपकरण के रूप में मोबाइल प्रौद्योगिकी के लाभों का उपयोग करने का मुद्दा उठाया। प्रधानमंत्री ने कहा, “किसी भी चीज़ की अति बुरी होती है।” उन्होंने घर के बने भोजन के साथ अत्यधिक मोबाइल फोन के उपयोग की तुलना करते हुए कहा कि खाना अधिक मात्रा में लेने पर पेट की समस्याएं और अन्य समस्याएं हो सकती हैं, भले ही यह पोषक तत्वों से भरपूर हो। उन्होंने निर्णय-आधारित निर्णय लेने की सहायता से प्रौद्योगिकी और मोबाइल फोन के प्रभावी उपयोग पर जोर दिया। प्रधानमंत्री ने गोपनीयता और गोपनीयता के विषय की ओर इशारा करते हुए कहा, “प्रत्येक माता-पिता को इस मुद्दे का सामना करना पड़ता है।

” उन्होंने परिवार में नियमों और विनियमों का एक सेट बनाने पर जोर दिया और रात के खाने के दौरान कोई इलेक्ट्रॉनिक गैजेट न रखने और घर में नो गैजेट जोन बनाने का उल्लेख किया। प्रधानमंत्री ने कहा, “आज की दुनिया में कोई भी प्रौद्योगिकी से भाग नहीं सकता।” उन्होंने कहा कि इसे बोझ नहीं समझना चाहिए बल्कि इसका प्रभावी उपयोग सीखना अनिवार्य है। प्रधान मंत्री ने छात्रों को अपने माता-पिता को प्रौद्योगिकी को एक शैक्षिक संसाधन होने के बारे में शिक्षित करने का सुझाव दिया और पारदर्शिता स्थापित करने के लिए अपने घरों में प्रत्येक मोबाइल फोन के पासकोड को प्रत्येक सदस्य के साथ साझा करने की भी सिफारिश की। उन्होंने कहा, “इससे बहुत सारी बुराइयों को रोका जा सकेगा।” श्री मोदी ने समर्पित मोबाइल एप्लिकेशन और टूल के उपयोग के साथ स्क्रीन टाइम की निगरानी पर भी बात की।

उन्होंने कक्षा में छात्रों को मोबाइल फोन की संसाधनशीलता के बारे में शिक्षित करने का भी सुझाव दिया।प्रधानमंत्री तनाव से कैसे निपटते हैं और सकारात्मक रहते हैं, यह सवाल तमिलनाडु में चेन्नई के मॉडर्न सीनियर सेकेंडरी स्कूल के छात्र एम वागेश ने प्रधानमंत्री से पूछा। उत्तराखंड में ऊधमसिंह नगर के डायनेस्टी मॉडर्न गुरुकुल एकेडमी की छात्रा स्नेहा त्यागी ने प्रधानमंत्री से पूछा ‘हम आपकी तरह सकारात्मक कैसे हो सकते हैं?’ उन्होंने कहा कि यह जानकर अच्छा लगा कि बच्चे प्रधानमंत्री के पद के दबावों को जानते हैं। उन्होंने कहा कि हर किसी को अप्रत्याशित परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है। प्रधानमंत्री ने कह कि कोई भी उनसे बचकर प्रतिक्रिया कर सकता है, ऐसे लोग जीवन में बहुत कुछ हासिल नहीं कर पाते हैं। “मेरा दृष्टिकोण जो मुझे उपयोगी लगा वह यह है कि मैं हर चुनौती को चुनौती देता हूं। मैं चुनौती के पारित होने का निष्क्रिय रूप से इंतजार नहीं करता। इससे मुझे हर समय सीखने का मौका मिलता है। नई परिस्थितियों से निपटना मुझे समृद्ध बनाता है।

” उन्होंने यह भी कहा, ‘मेरा सबसे बड़ा विश्वास ये है कि मेरे साथ 140 करोड़ देशवासी हैं। यदि 10 करोड़ चुनौतियाँ हैं, तो अरबों समाधान भी हैं। मैं खुद को कभी अकेला नहीं पाता हूं और सब कुछ मुझ पर है, मैं हमेशा अपने देश और देशवासियों की क्षमताओं से अवगत रहता हूं। यह मेरी सोच का मूल आधार है।” उन्होंने कहा कि हालांकि उन्हें सबसे आगे रहना होगा और गलतियां भी उनकी होंगी लेकिन देश की क्षमताएं ताकत देती हैं। उन्होंने कहा, “जितना मैं अपने देशवासियों की क्षमताएं बढ़ाता हूं, चुनौतियों को चुनौती देने की मेरी क्षमता बढ़ती है।” प्रधानमंत्री ने गरीबी के मुद्दे का उदाहरण देते हुए कहा कि जब गरीब खुद गरीबी हटाने की ठान लेंगे तो कविता चली जाएगी। उन्होंने कहा, “उन्हें पक्का घर, शौचालय, शिक्षा, आयुष्मान, पाइप से पानी जैसे सपने देखने के साधन देना मेरी ज़िम्मेदारी है। एक बार जब वह दैनिक अपमान से मुक्त हो जाएंगे, तो वह गरीबी उन्मूलन के प्रति आश्वस्त हो जाएंगे।”। उन्होंने कहा कि उनके 10 साल के कार्यकाल में 25 करोड़ लोग गरीबी से बाहर आये।

प्रधानमंत्री ने कहा कि व्यक्ति को चीजों को प्राथमिकता देने का ज्ञान होना चाहिए। यह अनुभव और हर चीज़ का विश्लेषण करने के साथ आता है। उन्होंने यह भी कहा कि वह अपनी गलतियों को सबक मानते हैं। उन्होंने कोविड महामारी का उदाहरण दिया और कहा कि बेकार बैठने के बजाय उन्होंने लोगों को एकजुट करने और दीया या ‘थाली’ मांगने जैसे कृत्यों के माध्यम से उनकी सामूहिक ताकत बढ़ाने का विकल्प चुना। इसी तरह, खेल की सफलता और सही रणनीति, दिशा और नेतृत्व का जश्न मनाने के परिणामस्वरूप अंतरराष्ट्रीय आयोजनों में बड़े पैमाने पर पदक प्राप्त हुए हैं। उन्होंने कहा कि उचित शासन के लिए भी नीचे से ऊपर तक उत्तम सूचना की व्यवस्था और ऊपर से नीचे तक उत्तम मार्गदर्शन की व्यवस्था होनी चाहिए।प्रधानमंत्री ने जीवन में निराश न होने पर जोर दिया और कहा कि एक बार यह निर्णय लेने के बाद केवल सकारात्मकता ही बचती है।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मैंने अपने जीवन में निराशा के सभी दरवाजे और खिड़कियां बंद कर दी हैं।’ उन्होंने कहा कि जब कुछ करने का संकल्प मजबूत हो तो निर्णय लेना आसान हो जाता है। उन्होंने कहा, “जब कोई स्वार्थी मकसद नहीं होता तो निर्णय में कभी भ्रम नहीं होता।” प्रधानमंत्री ने वर्तमान पीढ़ी के जीवन को आसान बनाने पर जोर देते हुए विश्वास जताया कि आज की पीढ़ी को अपने माता-पिता द्वारा झेली जाने वाली कठिनाइयों का सामना नहीं करना पड़ेगा। प्रधान मंत्री ने इस बात पर जोर देते हुए कहा कि सरकार एक ऐसा राष्ट्र बनाने का प्रयास कर रही है जहां न केवल वर्तमान बल्कि आने वाली पीढ़ियों को चमकने और अपनी क्षमता दिखाने का मौका मिले। यह पूरे राष्ट्र का सामूहिक संकल्प होना चाहिए।सकारात्मक सोच की शक्ति पर प्रकाश डालते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह सबसे नकारात्मक परिस्थितियों में भी सकारात्मक परिणाम देखने की ताकत देती है। प्रधानमंत्री ने सभी छात्रों को प्रोत्साहित करते हुए अपनी बातचीत समाप्त की और उन्हें अपने जीवन के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए शुभकामनाएं दीं।इस अवसर पर अन्य लोगों के अलावा केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी उपस्थित थे। (वार्ता)

उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था के लिए सुपर बूस्टअप साबित होगा अयोध्या धाम और राम मंदिर

VARANASI TRAVEL VARANASI YATRAA
SHREYAN FIRE TRAINING INSTITUTE VARANASI

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: