Astrology & Religion

चारधाम यात्रा को 25 लाख से ज्यादा तीर्थयात्रियों ने कराया रजिस्ट्रेशन

देहरादून : उत्तराखंड में चारधाम दर्शनों के लिए देश-विदेश से बड़ी संख्या में श्रद्धालु लगातार पहुँच रहे हैं। अब तक लगभग 25 लाख से ज्यादा तीर्थयात्रियों ने रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं।पर्यटन सचिव सचिन कुर्वे ने सोमवार को बताया कि रविवार शाम सात बजे तक 25 लाख से अधिक तीर्थयात्रियों ने चारधाम यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन करा लिया है। उन्होंने बताया कि यह प्रक्रिया 15 अप्रैल से शुरू की गई थी। प्रदेश सरकार और पर्यटन विभाग तीर्थयात्रियों को हर संभव सुविधा मुहैया कराने के लिए मुस्तैदी से काम कर रहे हैं। शासन की ओर से जारी दिशा-निर्देश को सभी अधिकारी गंभीरता से पालन कर रहे हैं।

श्री कुर्वे ने बताया कि फर्जी वेबसाइट के जरिए ठग लोगों से ठगी भी कर रहे हैं। इन सभी फर्जी वेबसाइट पर एसटीएफ और साइबर सेल की नजर है, इन्हें बंद कराया जा रहा है। हेली सेवा की बुकिंग के नाम पर फर्जी वेबसाइट के जरिए लोगों से ठगी के मामले अक्सर सामने आते हैं। इसको रोकने के लिए पिछले साल से आईआरसीटीसी के जरिए ही हेली सेवाओं की बुकिंग की जा रही है। इस साल 10 मई से चारधाम यात्रा की शुरुआत हुई है। हालांकि, इसके लिए रजिस्ट्रेशन काफी पहले ही शुरू हो चुका था।

चारधाम यात्रा में हवाई सेवा में कालाबाजारी के आरोप,हाईकोर्ट ने मांगा शपथपत्र

उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने चारधाम यात्रा में हेली कंपनियों की ओर से बुकिंग के नाम पर की जा रही कथित कालाबाजारी के मामले में याचिका में उठाये गये तथ्यों को लेकर याचिकाकर्ता से अतिरिक्त शपथपत्र देने को कहा है।मुख्य न्यायाधीश ऋतु बाहरी और न्यायमूर्ति राकेश थपलियाल की युगलपीठ ने अंक श्रीनिवासन की ओर से दायर जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए ये निर्देश जारी किये।याचिकाकर्ता की ओर से कहा गया कि चारधाम यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं के साथ टिकट बुकिंग के नाम पर कालाबाजारी की जा रही है। उससे स्वयं मोबाइल पर टिकट बुकिंग के लिए एक मैसेज के माध्यम से 20000 रुपये की मांग की गयी।

दूसरी ओर से प्रतिवादी में अदालत को बताया गया कि चारधाम यात्रा पर हवाई सेवा के लिये नौ निजी कंपनियों को जिम्मेदारी सौंपी गयी है। चारधाम यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं की भारी भीड़ है। आनलाइन बुकिंग शुरू होने के चंद दिनों में ही जून माह तक बुकिंग पूरी हो गयी है।अंत में अदालत ने याचिकाकर्ता से कहा कि उसकी ओर से जो तथ्य उजागर किया गया है उसको लेेकर अतिरिक्त शपथपत्र पेश करे। साथ ही यह शपथपत्र में यह भी खुलासा करे कि किसने यह मैसेज भेजा है और यह कौन सी कंपनी है।(वार्ता)

VARANASI TRAVEL
SHREYAN FIRE TRAINING INSTITUTE VARANASI

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: