NewsState

भारत की धर्म, संस्कृति व आध्यात्मिक नगरी है काशी – मुख्यमंत्री

काशी में विभिन्न संप्रदाय, उपासना व ज्ञानार्जन के केंद्र हैं – योगी आदित्यनाथ

प्रधानमंत्री काशी का प्रतिनिधित्व करते हैं, वह दुनिया में जहां भी जाते हैं काशी की गौरवशाली संस्कृति व परंपरा की छाप होते हैं

प्रधानमंत्री के एक भारत श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना में वीरशैव परंपरा का यह जंगमबाड़ी वाराणसी मठ संबल प्रदान करेगा – मुख्यमंत्री

blank

वाराणसी, जनवरी । उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को अपने एक दिवसीय वाराणसी दौरे के दौरान वाराणसी में जंगमबाड़ी स्थित वीरशैव महाकुंभ के हीरक महोत्सव में उपस्थित जन समूह एवं वीरशैव परंपरा के अनुयायियों को संबोधित करते हुए कहां की भारत की परंपरा बहुत स्मृद्व एवं अध्यात्मिक है। यहां जाति-संप्रदाय अनेक हैं। विभिन्न धर्मों, संप्रदायों की उपासना विधियां अलग-अलग हैं। लेकिन सभी का उद्देश्य एक है, लोक कल्याण एवं राष्ट्र कल्याण। सभी पंथ अलग-अलग मार्गों से लोक कल्याण का लक्ष्य प्राप्त करते हैं।
योगी आदित्यनाथ ने कहा कि काशी सबसे प्राचीन नगरी है। भारत की धर्म, संस्कृति व आध्यात्मिक नगरी है काशी। विभिन्न पंथो, संप्रदायों के उपासना केंद्र हैं काशी में। जंगमबाड़ी मठ वीरशैव परंपरा का केंद्र है। मुख्यमंत्री ने मठ के जगतगुरु डॉक्टर चंद्रशेखर का अभिनंदन करते हुए कहा कि इस गुरुकुल के शताब्दी समारोह प्रेरणादायक है। कई वर्षों से हजारों छात्रों ने यहां ज्ञानार्जन किया। मौलिक चिंतन किया। काशी में अच्छी समिर्द्ध परंपरा आगे बढ़ रही है। यह अभिनंदन है। काशी की गौरवशाली परंपरा का यहां अनुभूति हो रही है।
योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काशी का प्रतिनिधित्व करते हैं। दुनिया में प्रधानमंत्री जहां भी जाते हैं काशी की छाप छोड़ते हैं। योग की परंपरा का संदेश देते हैं, आज पूरी दुनिया योग को मानता है और विश्व योग दिवस के रूप में जन चेतना का कार्य कर अंगीकृत हुआ है। कुंभ भारत की आध्यात्मिक व लोक समागम का अद्भुत परंपरा है। यूनेस्को ने इसे माना है और यूनेस्को ने कुंभ को गौरवशाली धरोहर की मान्यता दी है। प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में भारत दुनिया में एक ताकत के रूप में उभर रहा है। विभिन्न संप्रदायों के आध्यात्मिक, सांस्कृतिक, स्मृद्धि व गौरवशाली परंपराओं का संबल जुड़ेगा, तो भारत विश्व का नेतृत्व करता दिखेगा। इस मठ के छात्रों ने परंपरा को आगे बढ़ाया है। काशी की छाप लोक कल्याण व राष्ट्र कल्याण को समर्पित रहती है। वीरशैव परंपरा के छात्रों को शुभकामनाएं देते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहां की यह पंथ, संप्रदाय प्रधानमंत्री के एक भारत श्रेष्ठ भारत में सहायक बनेगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक ग्रंथ का विमोचन भी किया।
इस अवसर पर मठ के जगतगुरु डॉ चंद्रशेखर ने आशीर्वचन देते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आगमन पर प्रसन्नता जाहिर की। कार्यक्रम में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, उत्तर प्रदेश के पर्यटन एवं धर्मार्थ कार्य राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार डॉक्टर नीलकंठ तिवारी, विधायक सौरभ श्रीवास्तव सहित भारी संख्या में संतजन, वीरशैव परंपरा के शिष्य, छात्र व जन सामान्य उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close
Close