National

देश भर के एयरपोर्ट से 39 विदेशी यात्री पॉजिटिव पाए गए,अगले 40 दिन महत्वपूर्ण !

नई दिल्ली । कई देशों में कोविड-19 (COVID-19) के बढ़ते डर के बीच केंद्र द्वारा आने वाले यात्रियों की रैंडम जांच फिर से शुरू करने के बाद देश के विभिन्न हवाईअड्डों पर कुल 39 अंतर्राष्ट्रीय यात्री कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं. हवाईअड्डों पर कोविड संक्रमण के लिए रैंडम परीक्षण 24 दिसंबर से शुरू किया गया था. पिछले तीन दिनों में विभिन्न हवाईअड्डों पर कुल 498 अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों की जांच की गई. एक सूत्र ने बुधवार को कहा कि उनमें से 39 का की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, सभी नमूनों को जीनोम अनुक्रमण के लिए भेजा गया है।

इसमें चार विदेशी वह नागरिक भी शामिल हैं जिनकी मंगलवार को गया हवाई अड्डे पर पॉजिटिव रिपोर्ट आई थी. वह गया में दलाई लामा के धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने आए थे. सूत्र के अनुसार, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया का भी गुरुवार को स्थिति की समीक्षा करने के लिए दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय (आईजीआई) हवाई अड्डे का दौरा करने की उम्मीद है।

इस बीच, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, भारत ने पिछले 24 घंटों में 188 नए कोविड मामले दर्ज किए, जबकि पिछले दिन 157 मामले दर्ज किए गए थे. देश में सक्रिय मामलों की संख्या वर्तमान में 3,468 है, जो देश के कुल सकारात्मक मामलों का 0.01 प्रतिशत है. कोविड के संभावित उछाल के बीच, केंद्र ने राज्यों से नए वेरिएंट को ट्रैक करने के लिए जीनोम सीक्वेंसिंग बढ़ाने को कहा है. देश भर के अस्पतालों ने मंगलवार को कोविड-19 के प्रबंधन के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं की परिचालन तत्परता सुनिश्चित करने के लिए मॉक ड्रिल का आयोजन किया था।

संभावित उछाल को देखते हुए, केंद्र ने राज्यों से सभी जिलों को कवर करने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं की भौगोलिक रूप से प्रतिनिधि उपलब्धता, आइसोलेशन बेड, ऑक्सीजन वाले आइसोलेशन बेड, आईसीयू बेड और वेंटिलेटर वाले बेड के साथ-साथ मानव संसाधन की इष्टतम उपलब्धता पर ध्यान देने के साथ मॉक ड्रिल करने को कहा था।

भारत में जनवरी में बढ़ सकते हैं Covid-19 के मामले, अगले 40 दिन महत्वपूर्ण !

अगले 40 दिन महत्वपूर्ण हैं क्योंकि भारत में कोविड-19 के मामले जनवरी में तेजी से बढ़ सकते हैं. आधिकारिक सूत्रों ने महामारी के प्रसार की पिछली पद्धति का हवाला देते हुए बुधवार को यह कहा. एक अधिकारी ने कहा, ‘‘विगत में, यह पाया गया था कि पूर्वी एशिया के कोविड-19 की चपेट में आने के 30-35 दिन बाद भारत में महामारी की एक नयी लहर आई थी… यह एक प्रवृत्ति रही है.” स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों ने हालांकि कहा कि संक्रमण की गंभीरता कम है. यदि कोविड की नयी लहर आती भी है तो इससे होने वाली मौतें और संक्रमितों के अस्पताल में भर्ती होने की दर बहुत कम रहेगी।

सूत्रों ने बताया कि पिछले दो दिनों में, भारत आये 6,000 अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की कोविड-19 जांच की गई, जिनमें 39 की रिपोर्ट ‘पॉजिटिव’ आई है. उन्होंने बताया कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया दिल्ली हवाई अड्डे पर कोविड-19 जांच सुविधाओं का जायजा लेने के लिए वहां का दौरा करेंगे. सरकार ने शनिवार से प्रत्येक अंतरराष्ट्रीय उड़ान से आने वाले यात्रियों में से दो प्रतिशत की ‘रैंडम’ कोविड जांच अनिवार्य कर दी है। सूत्रों ने कहा कि अगले हफ्ते से चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, हांगकांग, बैंकॉक और सिंगापुर से आने वाले यात्रियों के लिए ‘एयर सुविधा’ फॉर्म भरना और 72 घंटे पहले की आरटी-पीसीआर जांच अनिवार्य की जा सकती है. चीन और दक्षिण कोरिया सहित कुछ देशों में कोविड-19 के मामले तेजी से बढ़ने के बीच सरकार ने लोगों से सतर्क रहने को कहा है और राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों को किसी भी अकस्मात स्थिति से निपटने के लिए तैयारी करने को कहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने कोविड के मामलों में तेजी की स्थिति से निपटने की तैयारियों का जायजा लेने के लिए बैठकें की हैं।

कोविड-19 के मामले तेजी से बढ़ने की किसी भी स्थिति से निपटने की तैयारियों का जायजा लेने के लिए मंगलवार को देशभर के अस्पतालों में ‘मॉक ड्रिल’ की गई. वहीं, मांडविया ने कहा कि विश्व में कोविड के मामले बढ़ने के मद्देनजर देश सतर्कता बरत रहा है और इससे निपटने के लिए तैयार है. कोरोना वायरस के ओमीक्रोन के उप-स्वरूप बीएफ.7 से मामलों में हालिया वृद्धि हुई है. आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि बीएफ.7 के फैलने की दर बहुत अधिक है और एक संक्रमित व्यक्ति 16 लोगों को संक्रमित कर सकता है। (वीएनएस)।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: