NewsState

प्रधानमंत्री के न्यू इंडिया की परिकल्पना को साकार किए जाने के उद्देश्य से शहर की यातायात व्यवस्था शीघ्र सुधारें – मिश्रा

स्मार्ट सिटी योजना अंतर्गत गोदौलिया पर बनाया जा रहा मल्टीलेवल पार्किंग शहर की आईकॉनिक होगी – दुर्गा शंकर मिश्र

प्रधानमंत्री की मंशा के अनुरूप प्रत्येक पात्र गरीब परिवार को आवासीय सुविधा मुहैया कराया जाए

हर घर में पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित हो

वाराणसी शहर में संचालित एवं निर्माणाधीन परियोजनाओं को युद्ध स्तर पर अभियान चलाकर निर्धारित अवधि में पूरा कराया जाए

विगत 5-6 वर्षों के दौरान वाराणसी में ऐतिहासिक विकास कार्य हुए हैं

वाराणसी , जनवरी । शहरीय विकास मंत्रालय, भारत सरकार के सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने प्रधानमंत्री के न्यू इंडिया की परिकल्पना को साकार किए जाने के उद्देश्य से वाराणसी शहर की यातायात व्यवस्था को सुधारने एवं यहां की जाम की समस्या को पूरी तरह समाप्त करने के लिए न्यू मेट्रो, रोपवे एवं जल परिवहन की व्यवस्था को साकार किए जाने पर विशेष जोर दिया। वरुणा चैनेलाइजेशन योजना अंतर्गत वरुणा नदी के दोनों तरफ बनाए गए सात- आठ फीट के फुटपाथ मार्ग को ई-रिक्शा एवं टू व्हीलर वाहन के लिए उपयोग किए जाने पर जोर दिया। उन्होंने वाराणसी शहर की भौगोलिक स्थिति के दृष्टिगत रखते हुए न्यू मेट्रो के संचालन पर विचार किए जाने पर जोर देते हुए कहा कि यह 2 वर्ष में बनकर तैयार हो जाएगा। रोपवे खिड़कियां घाट से रविदास घाट तक संचालित किए जाने की योजना है।
शहरी विकास मंत्रालय, भारत सरकार के सचिव दुर्गा शंकर मिश्र शनिवार को विकास भवन स्थित सभागार में वाराणसी के विकास योजनाओं की प्रगति की समीक्षा बैठक कर रहे थे। वाराणसी शहर की यातायात व्यवस्था हेतु अनुमानित 25 लाख की आबादी के लिए 420 किलोमीटर रेडियस दूरी के लिए 1350 सिटी बस की आवश्यकता होने की जानकारी पर उन्होंने फिलहाल 500 बसों की व्यवस्था पीपीपी मॉडल पर किए जाने पर विशेष जोर दिया। बताया गया की वर्तमान में शहर में 100 सिटी बस संचालित है। न्यू मेट्रो एवं रोपवे के संबंध में शीघ्र ही वे दिल्ली में उच्च स्तरीय बैठक भी करेंगे। स्वच्छता कार्यक्रम की समीक्षा के दौरान उन्होंने इंदौर पैटर्न को वाराणसी में अडॉप्ट किए जाने पर जोर देते हुए कहा कि इंदौर में 100 फ़ीसदी कूड़े का रोजाना निस्तारण कर दिया जाता है। उन्होंने घरों से निकलने वाले कूड़े से होम कंपोस्टिंग पर जोर दिया। इसके लिए उन्होंने लोगों में जागरूकता पैदा किए जाने हेतु इसकी शुरुआत स्थानीय मंत्रियों, विधायकों सहित कमिश्नर, आईजी, डीएम, एसएसपी सहित वरिष्ठ अधिकारियों को अपने घरों के कूड़े को कंपोस्ट बनाए जाने के कार्य की शुरुआत किए जाने पर जोर दिया। उन्होंने होटलो एवं बड़े-बड़े संस्थानों से निकलने वाले कूड़े का कंपोस्टिंग किए जाने हेतु संस्थानों को प्रेरित किए जाने का भी निर्देश दिया। गंदगी फैलाने वालों पर जुर्माना लगाए जाने पर विशेष जोर दिया। उन्होंने शहर की स्वच्छता पर विशेष जोर देते हुए वार्ड वार एवं मोहल्ला बार स्वच्छता कार्यक्रम की निगरानी किए जाने हेतु स्वछग्रहियों को नामित करने का निर्देश दिया। समय-समय पर स्वच्छाग्रही का कम्पेन कराकर अच्छा कार्य करने वाले स्वच्छाग्रही को 2 अक्टूबर पर सम्मानित किए जाने पर जोर दिया। प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत हर पात्र व्यक्ति को प्रत्येक दशा में आवासीय सुविधा उपलब्ध कराए जाने का निर्देश दिया। प्रधानमंत्री शहरीय आवास योजना अंतर्गत चिन्हित 22733 लाभार्थियों को जून तक 100 प्रतिशत लाभान्वित कराए जाने का निर्देश दिया। शहर में बनाए जा रहे वेडिंग जोन के कार्य में तेजी लाने तथा चिन्हित 3772 के सापेक्ष 370 वेंडरों को ही अब तक परिचय पत्र जारी होने की जानकारी पर सभी चिन्हित वेंडरों को परिचय पत्र जारी किए जाने का निर्देश दिया। अमृत योजना की समीक्षा के दौरान उन्होंने ट्रांस एवं सीस वरुणा क्षेत्र के पेयजल परियोजनाओं दुरुस्त रखे जाने का निर्देश देते हुए कहा कि हर घर में पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित कराई जाए। इसमें किसी भी स्तर पर लापरवाही नहीं होनी चाहिए। सीस वरुणा क्षेत्र के पेयजल से समस्या ग्रस्त क्षेत्र का जीपीआर के माध्यम से कराए जा रहे सर्वे की समीक्षा के दौरान 420 किलोमीटर इफेक्टिव एरिया के सापेक्ष अभी 5 किलोमीटर का सर्वे कार्य कराए जाने की जानकारी पर उन्होंने शेष कार्य को भी कराए जाने पर जोर दिया। ट्रांस वरुणा क्षेत्र में 24262 सीवर के हाउस कनेक्शन कराया गया है। शेष एरिया में सीवर लाइन के 106 किलोमीटर ब्रांच लाइन बिछाए जाने हेतु 167 करोड़ की परियोजना शासन को भेजी गई है। सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने सीवरेज के ट्रीटमेंट हेतु बनाए गए एसटीपी को पूरी क्षमता से चलाए जाने का निर्देश दिया। बताया गया कि 362 एमएलडी की एसटीपी कार्य कर रही है। जिस पर 200 एमएलडी सीवर पहुंच रहा है। रमना एसटीपी बनने के बाद कुल 412 एमएलडी के एसटीपी कार्य करने लगेंगे। जायका योजना की समीक्षा के दौरान गंगा घाट के 5 पंपों सहित कोनिया, दीनापुर एवं फुलवरिया पम्पिंग स्टेशनों का कराए जा रहे कार्य में काफी विलंब करने तथा कार्य में रूचि न लिए जाने के कारण कार्य कराने वाली श्रीराम कंपनी को जलनिगम द्वारा ब्लैक लिस्ट करते हुए जमानत धनराशि आदि जब्त किए जाने की कार्रवाई पर उन्होंने शेष कार्य को नए सिरे से कराए जाने के कारण आने वाली तकनीकी परेशानियों को दृष्टिगत रखते हुए वर्तमान में कार्य करा रही कंपनी के अधिकारियों के साथ नगर आयुक्त को बैठक कर समस्या का समाधान निकाले जाने का निर्देश दिया। उन्होंने स्मार्ट सिटी योजना की समीक्षा के दौरान चिन्हित कार्यों को समय अवधि के अंदर पूरा कराए जाने का निर्देश दिया। गोदौलिया चौराहे पर बनाए जा रहे मल्टीलेवल पार्किंग को शहर का “आईकॉनिक” बताते हुए उन्होंने प्राथमिकता पर इस कार्य को पूरा कराए जाने का निर्देश दिया। जनपद में विगत 5-6वर्षों के दौरान कराए गए बड़े-बड़े विकास एवं निर्माण कार्यों होल्डिंग एवं साइनेज के माध्यम से जगह-जगह प्रदर्शित कराए जाने पर विशेष जोर देते हुए उन्होंने कहा कि इससे यहां पर आने वाले लोगों के लिए यह आकर्षण का केंद्र होगा। स्मार्ट सिटी योजना अंतर्गत खिड़कियां घाट पर कराए जाने वाले निर्माण, जीर्णोद्धार एवं सुंदरीकरण कार्य का प्रेजेंटेशन देख सचिव दुर्गा शंकर मिश्र भाव विभोर हो गए और व्यक्तिगत रूचि लेकर इस कार्य को कराए जाने हेतु अधिकारियों को निर्देशित किया।
सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने हृदय, नमामि गंगे सहित जनपद में संचालित एवं निर्माणाधीन परियोजनाओं के प्रगति की समीक्षा के दौरान युद्धस्तर पर अभियान चलाकर कार्यों को निर्धारित समय अवधि में मानक के अनुरूप गुणवत्ता के साथ पूरा कराए जाने पर विशेष जोर दिया।
बैठक में कमिश्नर दीपक अग्रवाल, नगर आयुक्त गौरांग राठी, सीईओ स्मार्ट सिटी विक्रमादित्य सहित सभी विभागीय अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।
शहरी विकास मंत्रालय, भारत सरकार के सचिव दुर्गा शंकर मिश्र शनिवार को विकास भवन में अधिकारियों के साथ जनपद की विकास योजनाओं की समीक्षा बैठक के पश्चात सिगरा स्थित रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर, स्मार्ट सिटी योजना अंतर्गत मैदागिन स्थित कंपनी बाग में कराए जा रहे मंदाकिनी कुंड एवं विसर्जन कुंड, टाउन हॉल मैदान में कराए जा रहे पार्किंग एवं पार्क के सुंदरीकरण, मछोदरी पार्क को बनाए जा रहे स्मार्ट पार्क एवं मछोदरी प्राइमरी पाठशाला को बनाए जा रहे स्मार्ट विद्यालय स्थलीय निरीक्षण किया। इसके बाद उन्होंने वोट के द्वारा अस्सीघाट से राजघाट तक घाटों के किनारे लगे फसाद लाइटों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान कमिश्नर दीपक अग्रवाल, नगर आयुक्त गौरांग राठी, सीईओ स्मार्ट सिटी विक्रमादित्य सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button