NationalUP Live

उनका ध्येय फीता काटना, हमारा ध्येय योजनाओं को पूरा करना, फर्क साफ है: मोदी

सपा, बसपा और कांग्रेस सरकारों की लापरवाही की किसानों को 100 गुना ज्यादा कीमत चुकानी पड़ी: पीएम

लखनऊ/बलरामपुर। देश में लगभग 100 परियोजनाएं पिछली सरकारों की लापरवाही के कारण पूरी नहीं हो पाईं। पहले के लोगों की लापरवाही की कीमत देश के किसानों को 100 गुना ज्यादा चुकानी पड़ी है। अगर यह बंद पड़ी सुविधा पहले मिलती तो किसानों का जीवन बदल गया होता, किसान खुशहाल होता। प्रधानमंत्री ने यह कहकर सपा, कांग्रेस और बसपा की पिछली सरकारों को कठघरे में खड़ा किया।

करीब दस हजार करोड़ रुपये से पूरी होने वाली सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना का उद्घाटन करने बलरामपुर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अखिलेश यादव पर तंज कसते हुए कहा कि मुझे तो संदेह है कि अभी कुछ लोग ये न कह दें कि मोदी जी इस योजना का फीता तो हमने काटा था। हो सकता है कि बचपन में उन लोगों ने इसका फीता काटा हो। कुछ लोगों की प्राथमिकता फीता काटना हो सकती है लेकिन हम लोगों की प्राथमिकता योजनाओं को पूरा करना है। प्रधानमंत्री मोदी को सुनने के लिए जनसैलाब उमड़ पड़ा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना पर लगभग पचास साल पहले काम शुरू हुआ था लेकिन मेरा क्या, मुझसे क्या… की सोच रखने वालों ने इसे इतने लंबे समय तक लटकाए रखा। पिछली कांग्रेस सरकार पर लापरवाही और भ्रष्टाचार जैसे आरोपों की झड़ी लगाते हुए उन्होंने कहा कि जब यह परियोजना शुरू हुई थी तब इसकी लागत सौ करोड़ रुपये ही थी। आज यह लगभग दस हजार करोड़ रुपये खर्च करने के बाद परियोजना पूरी हुई है।

उन्होंने सवाल करते हुए कहा कि यह पैसा किसका था… यह धन आपका था… इसके मालिक आप थे। जिन्होंने आपका यह पैसा समय पर उपयोग नहीं किया, वह आपके गुनहगार हैं। इन्हें आप सजा दीजिए। पहले की सरकारों की लापरवाही की बड़ी कीमत चुकानी पड़ी है। समय पर पानी पहुंचा होता तो किसान देश का खजाना भर देता। अपनी परिवार और बच्चों की पढ़ाई अच्छी करा सकता था। यहां के किसानों का अरबो-खरबों का नुकसान हुआ है।

उन्होंने अखिलेश यादव पर तंज कसते हुए कहा कि हमें सुबह से ही इंतजार था कि कब कोई आएगा कि यह योजना तो हमने शुरू की थी, फीता तो हम काटेंगे। कुछ लोगों की सोच इसी तरह की है कि शायद बचपन में फीता इन्होंने काटा हो। कुछ लोगों का ध्येय फीता काटना है, हमारा ध्येय योजना को पूरा करना है।

फर्क साफ हैः मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने अखिलेश सरकार पर हमला करते हुए कहा कि पहले यहां की सरकार माफियाओं के लिए काम करती थी लेकिन योगी सरकार माफियाओं का खात्मा करने में जुटी है। पहले की सरकार बाहुबलियों को बढ़ाते थे। योगी सरकार दलित, गरीब, पिछड़े और आदिवासियों को सशक्त करने में जुटी है। इसलिए यूपी के लोग कहते हैं कि फर्क साफ है। पहले की सरकारें माफियाओं को जमीन पर कब्जे करवाते थे लेकिन योगी सरकार इन मफियाओं के अवैध मकानों पर बुलडोजर चलवा रही है।

पहले यूपी की बेटियां घर में दुबकती थी अब माफिया जेल में दुबके हैं। इसीलिए यूपी के लोग कहते हैं कि फर्क साफ है। उन्होंने कहा कि स्वामित्व योजना के तहत आज गांव में प्रापर्टी की मैपिंग कराकर गरीबों को मालिकाना हक दिए जा रहे हैं। इस योजना से अवैध कब्जे से मुक्ति मिलेगी तो दूसरी तरफ बैंकों से पैसा जुटाने में दिक्कत नहीं आएगी।

उन्होंने कहा कि देश में यह जरूरी है कि पानी की कमी कभी बाधा नहीं बने। किसानों के खेत तक पानी पहुंचे, यह हमारी सरकार का ध्येय है। सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना इस बात की परिचायक है कि जब सोच ईमानदार होती है तो काम दमदार होता है। दशकों से लोग इस परियोजना को पूरा होने का इंतजार कर रहे थे।

कोरोना काल में लोगों का रखा ख्यालः पीएम

प्रधानमंत्री ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना से पूरा देश लड़ रहा है। इस करोना काल में हमने प्रयास किया कि कोई गरीब भूखा न सोए। पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना में मुफ्त राशन अभियान को होली तक आगे बढ़ा दिया गया है। दो लाख सात हजार करोड़ रुपये से ज्यादा केन्द्र सरकार इस पर खर्च कर रही है।

प्रधानमंत्री ने अवधी में किया जनता का स्वागत

हम इस पावन धरती का बारम्बार प्रणाम करित है। आज हमें आदि शक्ति मां पाटेश्वरी की पावन धरती और छोटी काशी के नाम से विख्यात बलरामपुर की धरती पर फिर आवै का मौका मिला। आप सै हमें खूब आशीर्वाद मिला है। प्रधानमंत्री ने जनसभा को इन शब्दों के संबोधन से शुरुआत की। उन्होंने कहा कि क्रांतिकारियों की इस धरती में देश की स्वतंत्रता संग्राम में अपना अमूल्य योगदान दिया है। अयोध्या में बन रहे प्रभु श्रीराम के भव्य मंदिर की जब-जब बात होगी, बलरामपुर रियासत के महाराजा पाटेश्वरी सिंह के नाम का उल्लेख जरूर होगा। भारत रत्न नानाजी देशमुख और अटल बिहारी बाजपेयी को यहां की धरती ने गढ़ा है और उन्हें संवारा है।

उन्होंने कहा कि इसी के साथ मैं जनरल विपिन रावत समेत सभी सैन्य अधिकारियों की शहादत को भी श्रद्धांजलि देता हूं। देश की सीमाओं की सुरक्षा बढ़ाने का काम, बार्डर इनफ्रास्ट्रक्चर मजबूत करने का काम, तीनों सेनाओं में तालमेल को सुदृण करने का काम तेजी से आगे बढ़ता रहेगा। भारत दुख में है, लेकिन दर्द सहते हुए भी हम ना अपनी गति रोकते हैं और न ही हमारी प्रगति रुकती है। भारत रुकेगा नहीं, भारत थमेगा नहीं। हम भारतीय मिलकर और मेहनत करेंगे देश के भीतर और देश के बाहर बैठी हर चुनौती का मुकाबला करेंगे। भारत के और शक्तिशाली और समृद्ध बनाएंगे।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: