National

देश में कोरोना मरीजों की संख्या 42,533 पहुंची, अब तक 1,373 की मौत

नई दिल्ली ।कोरोना वायरस के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, अब तक देश में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 42,533 हो गई है। इसके अलावा मरने वालों की संख्या 1,373 पहुंच गई है। वहीं, दिल्ली सहित देशभर में 25 मार्च से लॉकडाउन लागू है। इसका प्रथम चरण 25 मार्च से 14 अप्रैल तक था। दूसरा चरण 15 अप्रैल से तीन मई तक था। अब लॉकडाउन 3.0 सोमवार (चार मई) से 17 मई तक है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि कोविड-19 के मामले बढने की दर कुछ समय से लगभग स्थिर है और रोगियों के ठीक होने की दर सुधर रही है। उन्होंने कहा कि भारत सफलता की राह पर है तथा देश इस महामारी के खिलाफ लड़ाई जीतेगा।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, डॉ. हर्षवर्धन ने आज मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री, श्री नरोत्तम मिश्रा के साथ राज्य में कोविड-19 का प्रबंधन और रोकथाम की स्थिति का अवलोकन और समीक्षा करने के लिए बैठक की। इस बैठक में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री, श्री अश्विनी कुमार चौबे और केंद्र और राज्य दोनों के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

विभिन्न मुद्दों पर विचार-विमर्श और चर्चाएं की गई जिनमें पॉजिटिव पाये गये व्यक्ति के सभी संपर्कों का पता लगाना, निगरानी, घर-घर से सक्रिय मामलों की खोज को मजबूत करने, गैर-कोविड ​​रोगों के इलाज प्रबंधन के बारे में लोगों को जागरूक करने आदि विषय शामिल हैं।

सभी बंद किए जा चुके मामलों का आउटकम रेशो (ठीक हो चुके बनाम जिनकी मृत्यु हो चुकी), जो चिकित्सकीय ​​प्रबंधन को दर्शाता है, उनका 17 अप्रैल 2020 से विश्लेषण किया गया, और यह देखा गया कि 17 अप्रैल 2020 से पहले की तुलना में देश में सुधार हुआ है, उस समय आउटकम रेशो 80:20 था जबकि आज यह 90:10 है।

अब तक कुल 11,706 लोग ठीक हो चुके हैं। इससे हमारी ठीक होने की कुल दर 27.52% तक पहुंच गई है। वर्तमान में कुल पुष्ट मामलों की संख्या 42,533 है। कल से, भारत में कोविड-19 के पुष्ट मामलों की संख्या में 2,553 की वृद्धि दर्ज की गई है।

यह फिर से दोहराया गया है कि राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि रोकथाम के लिए कठोर उपाय अपनाए जाएं, जिसे मामलों का भार कम हो सके। उन्हें संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण पर समान रूप से ध्यान केंद्रित करते हुए प्रभावी चिकित्सकीय प्रबंधन भी सुनिश्चित करना चाहिए।

यह महत्वपूर्ण है कि जब लॉकडाउन को आसान बनाया गया है, हमें एक दूसरे से शारीरिक दूरी बनाने संबंधित दिशा-निर्देशों और प्रोटोकॉल का पालन करना चाहिए, हाथ की स्वच्छता और पर्यावरण स्वच्छता जैसे निवारक उपायों का पालन करना चाहिए और सावधान, जागरूक और सतर्क रहकर कोविड-19 से निपटना चाहिए। सार्वजनिक स्थानों पर हमेशा फेस कवर/मास्क लगाना चाहिए। यहां तक कि नियंत्रित क्षेत्रों के बाहर भी, निवारक उपायों पर सरकार द्वारा जारी किए गए सभी दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए। सामान्य इलाकों में आवश्यक वस्तुएं खरीदने या बैठक करते समय भीड़-भाड़ से बचना चाहिए।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close