National

मोदी ने यूएई के पहले हिन्दू मंदिर को शांति-सहिष्णुता के मूल्यों के लिए स्थायी श्रद्धांजलि करार दिया

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आबू धाबी में संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के पहले हिन्दू मंदिर को सद्भाव, शांति और सहिष्णुता के मूल्यों के लिए एक स्थायी श्रद्धांजलि करार दिया है जो भारत और संयुक्त अरब अमीरात दोनों साझा करते हैं।श्री मोदी ने आज यूएई और कतर की यात्रा पर रवाना होने के पहले अपने वक्तव्य में कहा, “मैं 13-14 फरवरी तक आधिकारिक यात्रा पर संयुक्त अरब अमीरात और 14-15 फरवरी तक कतर की यात्रा कर रहा हूं। 2014 के बाद से यह यूएई की मेरी सातवीं और कतर की दूसरी यात्रा होगी।

” उन्होंने कहा कि पिछले नौ वर्षों में, व्यापार और निवेश, रक्षा और सुरक्षा, खाद्य और ऊर्जा सुरक्षा और शिक्षा जैसे विभिन्न क्षेत्रों में यूएई के साथ हमारा सहयोग कई गुना बढ़ गया है। हमारा सांस्कृतिक और लोगों से लोगों का जुड़ाव पहले से कहीं अधिक मजबूत है।उन्होंने कहा, “मैं आबू धाबी में संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान से मिलने और हमारी व्यापक रणनीतिक साझेदारी को आगे बढ़ाने पर व्यापक चर्चा करने के लिए उत्सुक हूं। मुझे हाल ही में गुजरात में महामहिम की मेजबानी करने का सौभाग्य मिला, जहां वह वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट 2024 में मुख्य अतिथि थे।

”प्रधानमंत्री ने कहा कि यूएई के उपराष्ट्रपति, प्रधान मंत्री और रक्षा मंत्री और दुबई के शासक शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम के निमंत्रण पर, वह 14 फरवरी को दुबई में वैश्विक शासन शिखर सम्मेलन में विश्व नेताओं की सभा को संबोधित करूंगा। शिखर सम्मेलन से इतर प्रधानमंत्री शेख मोहम्मद बिन राशिद के साथ दुबई के साथ हमारे बहुमुखी संबंधों को मजबूत करने पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा।उन्होंने कहा, “यात्रा के दौरान, मैं आबू धाबी में पहले हिंदू मंदिर का भी उद्घाटन करूंगा। बीएपीएस मंदिर सद्भाव, शांति और सहिष्णुता के मूल्यों के लिए एक स्थायी श्रद्धांजलि होगी, जो भारत और संयुक्त अरब अमीरात दोनों साझा करते हैं। मैं आबू धाबी में एक विशेष कार्यक्रम में संयुक्त अरब अमीरात के सभी अमीरात के भारतीय समुदाय के सदस्यों को संबोधित करूंगा।

”श्री मोदी ने कहा, “कतर में, मैं अमीर शेख तमीम बिन हमद अल थानी, से मिलने की उम्मीद कर रहा हूं, जिनके नेतृत्व में कतर में जबरदस्त विकास और परिवर्तन जारी है। मैं कतर में अन्य उच्च गणमान्य व्यक्तियों से मिलने की भी प्रतीक्षा कर रहा हूं।”श्री मोदी ने कहा कि भारत और कतर के बीच ऐतिहासिक रूप से घनिष्ठ और मैत्रीपूर्ण संबंध हैं। हाल के वर्षों में, उच्च स्तरीय राजनीतिक आदान-प्रदान, दो देशों के बीच बढ़ते व्यापार और निवेश, हमारी ऊर्जा साझेदारी को मजबूत करने और संस्कृति और शिक्षा में सहयोग सहित सभी क्षेत्रों में हमारे बहुमुखी संबंध लगातार गहरे हुए हैं। दोहा में 800,000 से अधिक मजबूत भारतीय समुदाय की उपस्थिति हमारे लोगों के बीच मजबूत संबंधों का प्रमाण है।(वार्ता)

VARANASI TRAVEL VARANASI YATRAA
SHREYAN FIRE TRAINING INSTITUTE VARANASI

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: