Business

क्रिप्टो पर भारत ने वित्तीय स्थिरता बोर्ड की सिफारिशों का किया समर्थन

नयी दिल्ली : वित्त मंत्री सीतारमण ने जी-20 फाइनेशियल ट्रैक की बैठक में क्रिप्टो संपदा पर हुयी चर्चा का उल्लेख करते हुये शनिवार को कहा कि इस संबंध में भारत ने इसको लेकर आईएमएफ एफएसबी सिंथेसिस पेपर को समर्थन किया है।

श्रीमती सीतारमण ने बैठक के बाद यहां संवाददाता सम्मेलन में आज कहा, “ हम क्रिप्टो-परिसंपत्ति गतिविधियों और बाजारों और वैश्विक स्थिर मुद्रा व्यवस्था के विनियमन, पर्यवेक्षण और निगरानी के लिए वित्तीय स्थिरता बोर्ड (एफएसबी) की उच्च-स्तरीय सिफारिशों का समर्थन करते हैं। हम एफएसबी और एसएसबी से नियामक मध्यस्थता से बचने के लिए वैश्विक स्तर पर इन सिफारिशों के प्रभावी और समय पर कार्यान्वयन को बढ़ावा देने के लिए कहते हैं। हम क्रिप्टो परिसंपत्तियों के लिए साझा एफएसबी और एसएसबी कार्य योजना, आईएमएफ-एफएसबी सिंथेसिस पेपर का स्वागत करते हैं, जिसमें एक रोडमैप भी शामिल है, जो उभरते बाजार और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं (ईएमडीई) और चल रहे वैश्विक कार्यान्वयन के लिए विशिष्ट जोखिमों की पूरी श्रृंखला को ध्यान में रखते हुए एक समन्वित और व्यापक नीति और नियामक ढांचे का समर्थन करेगा।

”उन्होंने कहा कि मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद के वित्तपोषण के जोखिमों को संबोधित करने के लिए एफएटीएफ मानक है। वित्त मंत्री और केंद्रीय बैंक के गवर्नर अक्टूबर 2023 में अपनी बैठक में रोडमैप को आगे बढ़ाने पर चर्चा करेंगे।उन्होंने कहा, “ हम क्रिप्टो इकोसिस्टम के प्रमुख तत्व और जोखिम पर बीआईएस रिपोर्ट का भी स्वागत करते हैं। हम सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (सीबीडीसी) की शुरूआत और अपनाने से उत्पन्न होने वाले संभावित मैक्रो-वित्तीय प्रभावों पर चर्चा का स्वागत करते हैं। विशेष रूप से सीमा पार भुगतान के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय मौद्रिक और वित्तीय प्रणाली पर हुयी चर्चा भी स्वागतयोग्य था।

”उन्होंने सीबीडीसी पर बीआईएस इनोवेशन हब (बीआईएसआईएच) रिपोर्ट का स्वागत करते हुये कहा कि इस मुद्दे पर चर्चा को आगे बढ़ाने के लिए सीबीडीसी को व्यापक रूप से अपनाने के संभावित मैक्रो-वित्तीय प्रभावों पर आईएमएफ रिपोर्ट की प्रतीक्षा करते हैं।उन्होंने कहा, “ उपलब्ध डिजिटल उपकरणों और प्रौद्योगिकियों को तैनात करने का संकल्प लिया गया है तथा सुरक्षित और लचीले डिजिटल पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ावा देने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे, और यह सुनिश्चित करेंगे कि दुनिया भर में प्रत्येक नागरिक वित्तीय समावेशन में शामिल हो।

इसका समर्थन करने के लिए किसानों और एग्री-टेक स्टार्ट-अप और एमएसएमई के पारिस्थितिकी तंत्र द्वारा डिजिटल प्रौद्योगिकी के जिम्मेदार, टिकाऊ और समावेशी उपयोग को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। संबंधित डेटा सुरक्षा नियमों के अनुपालन में एक व्यापक डिजिटल स्वास्थ्य पारिस्थितिकी तंत्र के निर्माण के लिए डब्ल्यूएचओ-प्रबंधित ढांचे के भीतर डिजिटल स्वास्थ्य पर वैश्विक पहल (जीआईडीएच) की स्थापना का स्वागत करते हैं। संस्कृति और सांस्कृतिक विरासत की सुरक्षा और संवर्धन के लिए डिजिटल प्रौद्योगिकियों का लाभ उठाएगा और सांस्कृतिक और रचनात्मक क्षेत्रों और उद्योगों के विकास के लिए डिजिटल ढांचे को अपनाएगा।” (वार्ता)

विश्वास के संकट को दूर करके वैश्विक चुनौतियों का समाधान ढूंढे जी 20: मोदी

VARANASI TRAVEL
SHREYAN FIRE TRAINING INSTITUTE VARANASI

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: