LucknowNational

ऐतिहासिक फैसला : देश में पहली बार यूपी विधानसभा का एक दिन होगा महिला सदस्यों के नाम

  • देश की पहली विधानसभा बनेगी उत्तर प्रदेश, महिला सदस्यों के लिए आरक्षित होगा दिन
  • सीएम योगी ने भाजपा और सहयोगी दलों के विधानसभा एवं विधान परिषद सदस्यों को किया संबोधित
  • 22 सितंबर को दोनों सदनों में मिशन शक्ति पर योगी सरकार के कार्यों को बताएंगी महिला सदस्य

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 19 सितंबर से शुरू हो रहे विधानसभा के मानसून सत्र से पूर्व रविवार को भाजपा और सहयोगी दलों के विधानसभा एवं विधान परिषद सदस्यों को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि इस बार के मानसून सत्र में हमने 22 सितंबर का दिन दोनों सदनों की महिला सदस्यों के लिए आरक्षित रखा है। देश की किसी विधानसभा में ऐसा पहली बार हो रहा है। उस दिन विधानसभा की 47 और विधान परिषद की 6 महिला सदस्य ही अपना विषय रखेंगी।

उन्होंने महिला सदस्यों से अनुरोध करते हुए कहा कि वह राज्य सरकार द्वारा प्रदेश की महिलाओं के सुरक्षा, सम्मान और स्वावलम्बन के दृष्टिगत चलाए जा रहे मिशन शक्ति कार्यक्रम के विषय में जरूर बोलें। सीएम योगी ने संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना से अनुरोध करते हुए कहा कि इस दिन को विशेष बनाने के लिए महिला सदस्य को दोनों सदनों में पीठासीन अधिकारी बनाएं।

सीएम योगी ने कहा कि एक जनप्रतिनिधि को एक जननेता बनने के लिए कुछ मौलिक बातों को ध्यान में रखना चाहिए। जब विधानमंडल की कार्यवाही चल रही हो तो उस दौरान हम पूरी तन्मयता के साथ उसमें हिस्सा लें। साथ ही अपने आचरण और समय का विशेष ध्यान रखें। उन्होंने कहा कि जो सदस्य सदन की कार्यवाही में शामिल नहीं हो पा रहे हैं वो अपने सचेतक को इसकी जानकारी दे दें, जिससे समय पर कार्यवाही प्रारम्भ हो सके। भाजपा एवं सहयोगी दल के सभी सदस्य तय समय और ज्यादा से ज्यादा समय तक सदन में मौजूद रहें। इस दौरान सरकार के सभी कार्यों का समर्थन करें और अपनी मजबूत स्थिति का एहसास कराएं।

सीएम योगी ने कहा कि हम सत्ता पक्ष के सदस्य हैं, उसी अनुरूप व्यवहार करें, जिससे आमजन में अच्छा संदेश जाए। सभी सदस्य तथ्यों पर आधारित ठोस तरीके से अपनी बात रखें। विधानसभा की पूरी कार्यवाही रिकॉर्ड पर जाती है। भविष्य में जब कोई आपका भाषण को पढ़े तो उसे गौरव की अनुभूति हो। उन्होंने कहा कि कहा कि सभी मंत्री सदन में अपनी बात पूरी मजबूती के साथ रखें। लम्पी वायरस ज्वलंत मुद्दा है राजस्थान समेत कई राज्यों में स्थितियां खतरनाक हैं।

उत्तर प्रदेश में अच्छा कार्य हुआ है इसको देखते हुए पशुधन मंत्री अपनी बात दोनों सदन में लिखित में रखें। सीएम योगी ने कहा कि विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है इसलिए वह सदन की कार्यवाही में व्यवधान डालने की कोशिश करेगा। विपक्ष के अंदर एक नकारात्मकता है ये बात प्रदेश की जनता भी जानती है और उनसे वैसे ही व्यवहार की अपेक्षा भी करती है। इस बात का विशेष ध्यान रखें कि हम अपनी तरफ से बेरोजगार विपक्ष को कोई मुद्दा न दें।

सीएम योगी ने कहा कि 25 सितंबर को पंडित दीनदयाल उपाध्याय  की जयंती है। इसको विशेष बनाने के लिए बूथ स्तर पर कार्यक्रमों का आयोजन हो और दीनदयाल जी के विचारों और कार्यों के बारे में लोगों बताएं। गांधी जयंती के अवसर पर गांधी आश्रम में जाकर खादी की कोई न कोई वस्तु जरूर खरीदें। इससे खादी को लेकर समाज में एक अच्छा संदेश जाएगा। वोकल फॉर लोकल के कार्यक्रम से जुड़ने की बात कहते हुए उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए इस कार्यक्रम को जमीनी स्तर तक ले जाएं। सीएम योगी ने कहा कि सत्र के पहले दिन सभी सदस्य स्वास्थ्य विभाग द्वारा लगाए गए मेडिकल कैम्प में अपना मेडिकल चेकअप जरूर कराएं।

मंच पर सीएम योगी के साथ संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना, दोनों डिप्टी सीएम क्रमशः ब्रजेश पाठक, केशव प्रसाद मौर्या के साथ ही सदन के मुख्य सचेतक रामनरेश अग्निहोत्री, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह, भाजपा के प्रदेश संगठन महामंत्री धर्मपाल सिंह, सहयोगी दल अपना दल (एस) के अध्यक्ष आशीष पटेल और निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद मौजूद रहे। इस दौरान संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने सभी को अंगवस्त्रम पहनाकर स्वागत किया। वहीं कार्यक्रम के समापन पर लखीमपुर खीरी जिले की गोला विधानसभा सीट से भाजपा विधायक रहे अरविंद गिरी के निधन पर दो मिनट का मौन रखकर शोक व्यक्त गया।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: