National

अपराधियों को पनाह देने से कनाडा में होगा गैंगवार: जयशंकर

नासिक : विदेश मंत्री एस जयशंकर ने गुरुवार को कहा कि खालिस्तान समर्थक अलगाववादी तत्वों को आश्रय देने के कारण कनाडा के साथ भारत के द्विपक्षीय संबंध खराब हो गए हैं।श्री जयशंकर ने यहां एक कार्यक्रम में सवालों को जवाब देते हुए कहा, “ऐसे लोग जो अपराधी हैं, उनके कारण कनाडा अपने क्षेत्र में गिरोह युद्ध होते देखेगा।” उन्होंने कहा, “हर कोई जानता है कि इन दिनों कनाडा के साथ हमारे संबंध थोड़े खराब हो गए हैं, और इसका कारण कनाडा की घरेलू राजनीति है।

“उन्होंने कहा, “अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता किसी विदेशी देश में हिंसा की वकालत करने, अलगाववाद या आतंकवाद का समर्थन करने की स्वतंत्रता नहीं हो सकती है। लेकिन खालिस्तानियों का एक समूह है, जिसने कनाडा में दी गई स्वतंत्रता का दुरुपयोग किया है – अभी ही नहीं, वे वर्षों से ऐसा कर रहे हैं।”विदेश मंत्री ने कहा, ” कनाडा की राजनीति में ये तत्व वोट बैंक की राजनीति का हिस्सा हैं, और उन्हें प्रोत्साहित किया जाता है।” उन्होंने कहा, ‘आज मैं एक तथ्य बताऊंगा कि इन लोगों की गतिविधियों के कारण हमारे द्विपक्षीय संबंध क्यों खराब हो गए हैं।’ उन्होंने कहा कि भारतीय राजनयिकों को खालिस्तानी तत्वों द्वारा धमकियों दी जाती हैं और एक बार राजदूत के घर पर धुआं बम फेंका गया था। उन्होंने कहा कि जिसने भी भारत के खिलाफ अलगाववाद का समर्थन किया, उसे उस देश में आश्रय दिया गया।

श्री जयशंकर ने कहा, “हमें लगता है कि कनाडा की सरकार और राजनीति को इस पहलू पर गंभीरता से विचार करना चाहिए। हमने उन्हें इस बारे में कई बार समझाने की कोशिश की है कि भले ही हमारे संबंध खराब हो जाएंगे, लेकिन ऐसे लोगों को शरण देना कनाडा के हित में नहीं है, जो अपराधी हैं – मैं इन तत्वों का वर्णन करने के लिए इससे बेहतर शब्द नहीं सोच सकता – – क्योंकि वे कनाडा में भी गैंगवार लाएंगे।’उन्होंने कहा, “इसलिए उन्हें हमारा मामला समझना चाहिए, लेकिन अपनी आंतरिक राजनीति के कारण उन्होंने हमारी बात मानने से इनकार कर दिया है। ऐसे लोग भी हैं, जो इस पहलू का पूरा फायदा उठा रहे हैं।

गौरतलब है कि विदेश मंत्री की टिप्पणी तब आई है, जब पिछले साल कनाडा में अलगाववादी नेता हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के मामले में कनाडा द्वारा चार भारतीय नागरिकों को गिरफ्तार किया गया है और उन पर हत्या का आरोप लगाया गया है। निज्जर की हत्या के सिलसिले में करण बराड़, कमलप्रीत सिंह, करणप्रीत सिंह और अमनदीप सिंह को गिरफ्तार किया गया है। निज्जर की हत्या में भारतीय एजेंटों की “संभावित” संलिप्तता के पिछले साल सितंबर में कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के आरोपों के बाद दोनों देशों के बीच संबंधों में गिरावट आई है। भारत ने आरोपों को खारिज कर दिया है। (वार्ता)

VARANASI TRAVEL
SHREYAN FIRE TRAINING INSTITUTE VARANASI

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: