Uttar Pradesh

एम्बुलेंस के न पहुंचने से प्रसूता ने तड़प तड़प कर गवाईं जान

घर पर हुई प्रसव,बच्चा स्वस्थ- मां की मौत

म्योरपुर,सोनभद्र– स्थानीय थाना क्षेत्र के ग्राम परनी की एक बस्ती में एंबुलेंस की लम्बी इंतजारी के बाद एक महिला की प्रसव पीड़ा में तड़प तड़प कर मौत हो गयी। चार घंटे की लम्बी इंतजारी के बाद भी एंबुलेंस के न आने पर प्रसव पीड़ा से कराह रही महिला का घर में ही प्रसव कराया गया।जिसमें नवजात तो स्वस्थ पैदा हुआ, मगर प्रसव के बाद महिला की हालत बिगड़ने पर अस्पताल ले जाते समय रास्ते में दम तोड़ दिया। म्योरपुर के सीएचसी अधीक्षक का कहना है कि, एंबुलेंस की मॉनीटरिंग लखनऊ से होती है। वह इस लापरवाही के लिए पत्र लिखेंगे।

पीड़ित ग्राम परनी निवासी रामशंकर ने बताया कि पत्नी सोनकुंवर 32 वर्ष को गुरुवार की दोपहर प्रसव पीड़ा शुरू हुई।जिसके बाद एम्बुलेंस के लिए 102 पर डायल किया, फोन रिसिव करने वाले ने कहा कि 20 मिनट में एंबुलेंस आपके यहां पहुंच जाएगी। एक घंटे बाद भी जब एंबुलेंस नहीं आई तब उन्होनें गांव की आशा रीना को बुलाया। आशा ने तुरंत 102 एंबुलेंस को फोन लगाया गया तो फोन रिसीव करने वाले ने बताया कि एंबुलेंस जिला अस्पताल गयी है। आने में चार घंटे लगेंगे। उधर, सोनकुंवर की प्रसव पीड़ा और तेज हो गई। इस पर आशा ने एंबुलेंस जल्दी बुलाने के लिए 108 नंबर पर फोन लगाया। फोन रिसीवर ने कहा कि दो घंटे के बाद एंबुलेंस मिलेगी। रमाशंकर के अनुसार इसी दौरान उनकी पत्नी ने एक बच्चे को जन्म दे दिया। जन्म के बाद जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ्य थे। कुछ देर पर उनकी पत्नी को तेज ब्लिडिंग होने लगी। उसकी हालत खराब होने लगी।पत्नी की हालत बिगड़ती देख ग्राम प्रधान मनोज यादव को मामले की जानकारी दी तो ग्राम प्रधान ने तुंरन्त एक गाड़ी रमाशंकर के घर भेजा।परिजनों ने महिला को म्योरपुर सीएचसी ले गये। अस्पताल पहुंचते ही चिकित्सकों ने महिला को देखते ही मृत घोषित कर दिया।सीएचसी केंद्र अधीक्षक ने एंबुलेंस समय से नहीं मिलने के बाबत कहा कि इसके बारे में मैं कुछ बता नहीं सकता। एंबुलेंस की मॉनीटरिंग लखनऊ से ही होती है। वैसे समय से एंबुलेंस न पहुंचने की जानकारी मिली है। इसके लिए शासन को पत्र लिखूंगा।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close