Breaking News

गांवों में रोजगार सृजन के लिए लगवाएं बैंकों के कैंप: सीएम योगी

आठ माह में 99 आकांक्षात्मक विकास खंडों में से 86 राज्य के औसत के बराबर आए: सीएम योगी

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मात्र आठ माह में 86 विकासखंड राज्य के औसत के बराबर आ गए हैं। मार्च 2022 तक प्रदेश के 99 विकासखंड राज्य के औसत से पीछे थे, आज सिर्फ 13 बचे हैं। मुख्यमंत्री फेलोशिप कार्यक्रम शोधार्थियों की कड़ी मेहनत से यह संभव हो पाया है। उन्होंने कहा कि शोधार्थी गांवों में स्वरोजगार सृजन पर विशेष ध्यान दें। इसके लिए ग्राम पंचायत स्तर पर बैंकों के कैम्प लगवाएं।

सीएम योगी ने गुरुवार को 5 कालीदास मार्ग स्थित सरकारी आवास पर मुख्यमंत्री फेलोशिप कार्यक्रम के अंतर्गत 100 आकांक्षात्मक विकास खंडों में तैनात शोधार्थियों से सीधा संवाद किया। इस दौरान उन्होंने शोधार्थियों से कार्य क्षेत्र में आने वाली चुनौतियों के बारे में जानकारी प्राप्त की। सीएम योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आकांक्षात्मक जनपदों के तर्ज पर प्रदेश में आकांक्षात्मक विकास खंडों का चयन किया गया है। इन शोधार्थियों ने अच्छा प्रयास प्रारम्भ किया है। डाटा संकलित न कर पाने के कारण शासन को कई बार समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ये शोधार्थी प्रतिदिन अपना कार्य करने के बाद डेटा अपलोड कर रहे हैं। इससे डाटा संकलन में सुविधा हो रही है।

बोले योगी- विकास खंड की आवश्यकता को ध्यान में रखकर कार्यक्रम चलाएं शोधार्थी.योगी ने मुख्यमंत्री फेलोशिप कार्यक्रम के अंतर्गत 100 आकांक्षात्मक विकास खंडों में तैनात शोधार्थियों से सीधा संवाद किया.

सीएम योगी ने कहा कि शिक्षा, स्वास्थ्य, स्किल, इंफ्रास्ट्रक्चर और अन्य व्यवस्थाओं को और बेहतर बनाने के लिये सही डाटा अपलोड करें। विकास खंड की आवश्यकता को ध्यान में रखकर कार्यक्रम चलाएं। उन्होंने कहा कि हमें किसानों की लागत को कम करते हुए उनके उत्पादन को बढ़ाना है। इसके लिए पेस्टिसाइड के छिड़काव को लेकर किसानों को ड्रोन ट्रेनिंग के बारे में जानकारी दी जाए। युवाओं को रोजगार मिले इसके लिए हर विकासखंड में कौशल विकास के कैम्प लगवाए जाएं।

सीएम योगी ने कहा राज्य सरकार की कुछ योजनाओं में इन शोधार्थियों के माध्यम से अप्रैल से लेकर नवंबर तक बहुत अच्छा कार्य हुआ है। आयुष्मान भारत कार्ड, स्कूलों में शौचालय और पेयजल, गोआश्रय स्थल, मिशन इंद्रधनुष जैसी कई अन्य कार्यक्रम आकांक्षात्मक विकास खंडों में अब और तेजी के साथ आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा प्रदेश के ज्यादातर ग्राम पंचायतों में ग्राम सचिवालय बनकर तैयार हो गए हैं। इनमें बैंकिंग सखी, रोजगार सेवक और कम्प्यूटर ऑपरेटर के बैठने की व्यवस्था है। साथ ही, मिशन शक्ति के तहत महिला बीट पुलिस को भी सप्ताह में एक दिन बैठने के निर्देश हैं।

बेहतर कार्य करने वाले शोधार्थियों को सरकारी सेवा में मिलेगी उम्र की छूट

सीएम योगी ने कहा कि शोधार्थी जनपद में व्यापक भ्रमण और जन संपर्क करें। समन्वय बनाकर योजनाओं पर लोगों का फीडबैक एकत्रित करें। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में असीम संभावनाएं हैं। शोधार्थी जब फील्ड में रहें, तब अधिकारियों और लोगों से बेहतर संवाद बनाकर कार्यक्रम को आगे बढ़ाएं। इससे सार्थक परिणाम सामने आएंगे। सीएम योगी ने शोधार्थियों का उत्साह बढ़ाते हुए कहा कि 3 से 4 वर्ष बाद जब इन आकांक्षात्मक विकास खंडों में तैनात शोधार्थियों के कार्यों का मूल्यांकन किया जाएगा, तो जो भी शोधार्थी अच्छा कार्य किए होंगे, अगर वह सरकारी सेवा में आना चाहेंगे, तो उन्हें उम्र में छूट दी जाएगी।

मुख्यमंत्री फेलोशिप योजना दूसरे राज्यों के लिए मॉडल: परमेश्वरन अय्यर

नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी परमेश्वरन अय्यर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने आजादी के 100 साल पूरे होने पर विकसित भारत की परिकल्पना की थी। इसमें शहरों के साथ-साथ ब्लॉक और जनपद की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश को वन ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने में हर जनपद और ब्लॉक की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। यहां की मुख्यमंत्री फेलोशिप योजना अन्य राज्यों के लिए मॉडल है और प्रेरणा का कार्य करेगी। नीति आयोग उत्तर प्रदेश सरकार के ब्लॉक, सिटी और जनपद के विकास कार्यक्रम में पूरा सहयोग करेगा।

शोधार्थियों से प्राप्त हो रहे हैं नए सुझाव: मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र

मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने कहा कि पूरे पारदर्शी तरीके से मुख्यमंत्री फेलोशिप के शोधार्थियों का चयन हुआ है। चयन के बाद इन्हें दो सप्ताह का प्रशिक्षण दिया गया। उन्होंने कहा कि समस्त शोधार्थियों द्वारा जनपद एवं विकास खण्ड स्तरीय अधिकारियों से भेंट कर सामंजस्य स्थापित कर लिया गया है। इन शोधार्थियों के विकास खंडों में जाने से हमें नए-नए सुझाव प्राप्त हो रहे हैं, जिन पर विकास खंड स्तर पर कार्य हो रहे हैं। साथ ही इन शोधार्थियों के क्षेत्र भ्रमण के दौरान पाई गई कमियों का निराकरण सम्बंधित अधिकारी के संज्ञान में लाकर कराया जा रहा है।

शोधार्थियों ने कहा- समाज के लिए कार्य करके खुशी मिल रही है

बिजनौर जनपद के नजीबाबाद ब्लॉक में तैनात शोधार्थी सीमा गिरी ने कहा कि समाज के लिए सेवा का यह कार्य करके मुझे खुशी मिल रही है। हमने अपने ब्लॉक में स्वच्छता, कौशल विकास और ग्रामीण स्वास्थ्य पोषण मिशन पर कार्य किया है, जिसके अब सार्थक परिणाम हमारे ब्लॉक में देखने को मिल रहे हैं।संतकबीरनगर जनपद के सांथा ब्लॉक में तैनात मोअज्जम अहमद खान ने कहा कि 15 ग्राम पंचायतों में आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों के साथ समन्वय कर बेहतर कार्य किया गया है। इस दौरान गर्भवती माताओं के उपचार में आवश्यक निदान और देखभाल को लेकर जानकारी दी।

जौनपुर के रामपुर ब्लॉक में तैनात उपकारीनाथ त्रिपाठी ने कहा कि तैनाती मिलने के बाद मैंने अपने ब्लॉक में सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के बारे में लोगों को जानकारी दी। उन्होंने कहा कि हमारे ब्लॉक के दूरस्थ इलाकों में पड़ने वाले गांवों में आधार कार्ड की छोटी-छोटी त्रुटियों को लेकर बुजुर्ग काफी परेशान थे। जिसको मैंने प्राथमिकता पर लेते हुए 480 लोगों का आधार कार्ड सही कराया और उन्हें पेंशन आदि को सरकारी योजनाओं से लाभान्वित कराया।

VARANASI TRAVEL VARANASI YATRAA
SHREYAN FIRE TRAINING INSTITUTE VARANASI

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: