State

बीआरओ ने अरुणाचल प्रदेश में रणनीतिक क्षेत्रों को जोड़ने वाले एक प्रमुख सड़क पर रिकॉर्ड समय में पुल का निर्माण किया

नई दिल्ली । भले ही देश भर में लॉकडाउन है, पर सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने कोविड-19 के खिलाफ सर्वाधिक सावधानियों को ध्यान में रखते हुए सुबनसिरी नदी पर दापोरिजो पुल का निर्माण कर दिया है जिससे कि अरुणाचल प्रदेश में संचार की इस रणनीतिक लाइन को जोड़ा जा सके।

दापोरिजो पुल भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा की दिशा में एक रणनीतिक कड़ी है। सभी आपूर्तियां, राशन, निर्माण संबंधी सामग्री और दवाएं इसी पुल से गुजरती हैं। पुराने पुल में दरार आ गई थी जिसकी वजह से 26 जुलाई 1992 जैसी बड़ी दुर्घटना हो सकती थी जब एक यात्री बस पुल से नदी में गिर गई थी और उसमें किसी की भी जान नहीं बची थी। डीजीबीआर एवं सीई अरुणांक के सहयोग से रक्षा मंत्रालय और अरुणाचल प्रदेश से इसे शीघ्रता से मंजूरी मिल गई। कोविड-19 से संबंधित सभी सावधानियों का अनुपालन करते हुए रिकॉर्ड समय में इस कठिन और खतरनाक कार्य को पूरा कर लिया गया।

पुल के निर्माण का कार्य 23 बीआरटीएफ द्वारा 17 मार्च, 2020 को आरंभ किया गया था। आखिरकार, 27 दिनों के बाद 14 अप्रैल, 2020 को पुल को सफलतापूर्वक और सुरक्षित तरीके पुरी तरह तैयार कर दिया गया। इसे सफलतापूर्वक क्लास 24 टन से 40 टन में अपग्रेड किया गया है जिससे कि न केवल सेना की आवश्यकता वाले भारी वाहनों को इससे गुजरने में आसानी हो बल्कि अपर सुबनसिरी जिले की भविष्य संबंधी अवसंरचना विकास आवश्यकता की भी पूर्ति हो सके।

अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री पेमा खांडु ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये इसका उद्घाटन किया तथा आज इसे वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया।

पुल का सुरक्षित और आरंभिक निष्पादन बीआरओ, रक्षा मंत्रालय एवं अरुणाचल प्रदेश सरकार के बीच अबाधित समन्वयन एवं सहयोग को प्रदर्शित करता है।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close