Business

लाकडाउन में अब बैंक ‘एटीएम’ भी रुलाने लगा

(युगल किशोर जालान)
वाराणसी। लाकडाउन में बाजार खुलने की खबर की खुशी तीन दिनों में ही चिंता में बदल गयी। शहर के अनेक इलाकों में स्थित बैंक एटीएम लोगों को रुला रहा। बैंक खाते में धन होने के बावजूद एटीएम से निकाल नहीं पा रहे हैं। अब दूध, सब्जी, फल, पान, फेस मास्क जैसी छोटी-छोटी खरीददारी एटीएम कार्ड से तो हो नहीं सकेगी। सोमवार से सात घंटे दुकानें खुलना शुरू हो जान से शहर की सडकों पर 43 दिनों बाद दो और चार पहिया वाहन फर्राटे भरते दिख रहे। शहर के कुछ इलाकों में दोपहर में दो-तीन घंटे लगता ही नहीं कि हम लाकडाउन में जी रहे। इसी का परिणाम है कि शहर के अधिकांश बैंक एटीएम ने धन उगलना बंद कर दिया है।
बुधवार की सुबह ग्यारह बजे के बाद से एटीएम मशीनों के ठप होने का क्रम शुरू हो गया था। कुछ इलाकों में मंगलवार की शाम को ही एटीएम मशीनों का पेट खाली हो गया था या तकनीकी खराबी आ गयी थी। बताया जाता है कि जिन बंद पडी एटीएम मशीनों मे कोई पार्ट खराब हो गया है, उसे चालू होने में काफी दिन लग सकते है क्योंकि पार्ट बाहर से आने है और वर्तमान समय में तुरंत मंगाना संभव नहीं। सार्वजनिक क्षेत्र के एक बैंक के प्रशासनिक अधिकारी ने बताया कि लाकडाउन में भी एटीएम मशीनों में लगातार करेन्सी (रुपये) भरी जा रही। एटीएम मशीन की स्थिति बैंक में बैठा अधिकारी कंप्यूटर पर देखता रहता हैं। किसी भी एटीएम मशीन में करेंसी समाप्त होने की रिपोर्ट मिलते ही संबंधित एजेन्सी को तत्काल सूचित कर दिया जाता है।
बैंक सूत्रों के अनुसार इस समय सभी ब्रांच में स्टाफ कम आ रहे। लाकडाउन में काम की अवधि भी घटी हैं। कस्टमर भी कम आ रहे। धन निकासी, आरटीजीएस, नेफ्ट और क्लियरिंग की चेक जमा करने और नगद निकासी इत्यादि के लिए ही लोग आ रहे। एटीएम मशीन का पूरा ध्यान इसलिए रखना जरूरी हो गया है कि धन निकासी के लिए बैंक ब्रांच में भीड ना हो।
बताया जाता है कि चार मई से बाजार खुलते ही एटीएम से धन निकासी भी अचानक काफी बढ गयी। पांच और छह मई को शहर में स्थित लगभग सभी एटीएम से काफी धन निकासी हुई। गनीमत है कि छोटी छोटी धन निकासी हो रही थी इसलिए एटीएम का पेट खाली होंने में समय लगा। मार्च महीने से एटीएम मशीन में दो हजार के नोट नहीं भरे जा रहे, इसलिए भी कुल रकम आधार पर एटीएम की छमता घटी हैं। सभी बैंक एटीएम से सिर्फ 500 वाले नोट निकल रहे हैं, इससे सामान्य छोटी-छोटी खरीददारी में 10, 50 व सौ के नोटों की कमी महसूस होने लगी है।
लाकडाउन में लोग एटीएम से अपने खाते में धन जमा नहीं कर रहे हैं। एटीएम से सिर्फ धन निकासी ही हो रही। इसी से बुधवार को दोपहर में ही अधिकांश एटीएम ने धन उगलना बंद कर दिया था। खाली पडे एटीएम मे गुरूवार को भी करेन्सी भरे जाने की उम्मीद बहुत कम है। कारण बैंक में गुरुवार को बुद्ध पूर्णिमा का अवकाश है। एटीएम में करेन्सी भरने वाली एजेन्सी भी स्टाफ की कमी से परेशान हैं। इसी से बुधवार को लोग विभिन्न एटीएम में जाकर धन निकासी का प्रयास कर रहे थे। लाकडाउन में अनेक एटीएम का चक्कर लगाकर भी धन निकासी ना होने से सामान्य आदमी, खासकर नौकरी पेशा काफी चिंतित और दुखी है। नौ मई को महीने का दूसरा शनिवार होने से छुट्टी रहेगी। दस को रविवार है।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close