Business

एमएसएमई-उद्यम पंजीकरण के लिए शुरू किया गया एक नया पोर्टल

पोर्टल कदम-कदम पर उद्यमियों का मार्गदर्शन करेगा कि उन्हें क्या पता होना चाहिए, उन्हें क्या करना चाहिए

नई दिल्ली । केन्‍द्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (एमएसएमई) द्वारा पहले ही घोषित किया जा चुका है, 26 जून, 2020 की अधिसूचना के अनुसार, उद्यमों के वर्गीकरण और पंजीकरण की नई प्रक्रिया 1 जुलाई, 2020 से शुरू हो रही है। इस उद्देश्य के लिए एक एंटरप्राइज उदयम के नाम से जाना जाएगा और इसकी पंजीकरण प्रक्रिया ‘उद्यम पंजीकरण’ के नाम से जानी जाएगी।

प्रक्रिया की प्रमुख बातें हैं:

  • एमएसएमई पंजीकरण प्रक्रिया पूरी तरह से ऑनलाइन, पेपरलेस और स्व-घोषणा पर आधारित है। एमएसएमई को पंजीकृत करने के लिए कोई दस्तावेज या प्रमाण अपलोड करने की आवश्यकता नहीं है;
  • पंजीकरण के लिए आधार नंबर जरूरी होगा;
  • पंजीकरण के बाद एक पंजीकरण संख्या दी जाएगी;
  • पंजीकरण की प्रक्रिया पूरी होने के बाद, एक उदयम पंजीकरण प्रमाणपत्र जारी किया  जाएगा;
  • इस प्रमाण पत्र में एक डायनेमिक क्यूआर कोड होगा, जिससे हमारे पोर्टल पर वेब पेज और उद्यम के बारे में विवरण प्राप्त किया जा सकता है;
  • पंजीकरण के नवीकरण की कोई आवश्यकता नहीं होगी;
  • उद्यमों के निवेश और टर्नओवर पर पैन और जीएसटी से जुड़ा हुआ विवरण संबंधित सरकारी डेटा बेसों से स्‍वत: ले लिया जाएगा;
  • एमएसएमई मंत्रालय की ऑनलाइन प्रणाली पूरी तरह से आयकर और जीएसटीआईएन सिस्टम के साथ जुड़ी होगी;
  • जिनके पास ईएम-द्वितीय या यूएएम पंजीकरण या एमएसएमई मंत्रालय के तहत किसी भी प्राधिकरण द्वारा जारी किया गया कोई अन्य पंजीकरण है, उन्हें भी खुद को फिर से पंजीकृत करना होगा;
  • किसी भी एंटरप्राइज को एक से अधिक उदयम पंजीकरण नहीं करना चाहिए। हालाँकि, विनिर्माण या सेवा या दोनों सहित कोई भी गतिविधियाँ एक पंजीकरण में निर्दिष्ट या जोड़ी जा सकती हैं;
  • चैंपियंस कंट्रोल रूम और डीआईसी में सिंगल विंडो सिस्टम के नाम पर सरकारी सुविधा तंत्र इस प्रक्रिया में लोगों की मदद करेगा;
  • पंजीकरण प्रक्रिया पूरी तरह से मुफ्त है। इस संबंध में कोई लागत या शुल्क का भुगतान नहीं किया जाना है।

मंत्रालय ने विश्वास व्यक्त किया है कि यह प्रक्रिया अत्यंत सरल, सहज उद्यम अनुकूल होगी। यह न केवल भारत में बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में एक उदाहरण स्थापित करेगी। यह लेनदेन के समय और लागत को कम करेगी। उद्यमी और उद्यम अपने वास्तविक काम पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं और विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बन सकते हैं।

साथ ही, कुछ निजी वेबसाइटों को सरकारी वेबसाइट के रूप में पेश करते हुए, मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि भारत सरकार के इस पोर्टल (www.udyamregistration.gov.in) और सरकार के सिंगल विंडो फेसिलिटेशन सिस्टम को छोड़कर, कोई अन्य निजी ऑनलाइन या ऑफलाइन प्रणाली, सेवा, एजेंसी या व्यक्ति एमएसएमई पंजीकरण करने या उस प्रक्रिया से संबंधित किसी भी गतिविधि को करने के लिए अधिकृत नहीं है।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close