National

PM मोदी नें राष्ट्रपति से मिल घटना से अवगत कराया , राष्ट्रीय , उपराष्ट्रपति नें सुरक्षा चूक पर जतायी चिंता

प्रधानमंत्री की सुरक्षा चूक पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से राष्ट्रपति भवन में मुलाकात की और इस दौरान श्री कोविंद ने प्रधानमंत्री के पंजाब दौरे के समय उनके सुरक्षा बंदोबस्त में हुई गम्भीर चूक पर गहरी चिंता जतायी।राष्ट्रपति भवन ने प्रधानमंत्री के साथ श्री कोविंद की मुलाकात के बारे में एक बयान में कहा, “ राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने आज राष्ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कल पंजाब में उनके काफिले की सुरक्षा में हुई चूक पर सीधे उनसे जानकारी प्राप्त की। ”ट्विटर पर इस बयान में कहा गया है, “ राष्ट्रपति ने इस गंभीर चूक पर अपनी चिंता व्यक्त की।”

गौरतलब है कि श्री मोदी कल भठिंडा से सड़क मार्ग से हुसैनीवाला में राष्ट्रीय शहीद स्मारक जा रहे थे। रास्ते में एक फ्लाईओवर पर प्रधानमंत्री के काफिले को कुछ प्रदर्शनकारियों ने रोक दिया था। श्री मोदी वहां करीब 20 मिनट तक फंसे रहे और अंतत: उनके काफिले को भठिंडा हवाई अड्डे वापस आना पड़ा।इससे पहले श्री कोविंद ने प्रधानमंत्री को फोन करके भी उनसे बातचीत की थी।

नायडू ने मोदी की सुरक्षा चूक पर जतायी चिंता

उप-राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी की सुरक्षा में हुई चूक पर गंभीर चिंता व्यक्त करते हुए गुरुवार को कहा है कि दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए।श्री नायडू ने यहां एक जारी एक संदेश में कहा कि पंजाब में कल हुई सुरक्षा चूक पर उन्होेंने प्रधानमंत्री से बातचीत की है और घटना पर गंभीर चिंता जतायाी है।उप-राष्ट्रपति ने कहा कि सुरक्षा प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने के लिए कठोर कदम उठाए जाने चाहिए और भविष्य में दोबारा इस प्रकार की चूक नहीं

प्रधानमंत्री की सुरक्षा चूक पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

उच्चतम न्यायालय ने पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा चूक पर सवाल खड़े करने वाली याचिका पर शीघ्र सुनवाई के लिए गुरुवार को सहमत हो गई।मुख्य न्यायाधीश एन. वी. रमना की पीठ के समक्ष वरिष्ठ अधिवक्ता मनिंदर सिंह ने ‘विशेष उल्लेख’ के तहत सुनवाई का अनुरोध किया। श्री सिंह ने पंजाब के भटिंडा में बुधवार को प्रधानमंत्री मोदी के सड़क मार्ग से जाने के दौरान सुरक्षा चूक से जुड़े मामले को अत्यावश्यक बताते इससे संबंधित याचिका पर शीघ्र सुनवाई की गुहार लगाई।

इसके बाद पीठ ने इस मामले की सुनवाई शुक्रवार को करने के लिए सूचीबद्ध कर दी।पीठ ने ‘वकीलों की आवाज’ की ओर से दायर इस याचिका की एक प्रति पंजाब सरकार के वकील को देने का निर्देश देते हुए कहा कि वह इस मामले पर कल सुनवाई करेगी।याचिका में भविष्य में प्रधानमंत्री की सुरक्षा चूक की पुनरावृत्ति से बचने के लिए पूरे प्रकरण की ‘कुशल और पेशेवर’ जांच की मांग की गई है। याचिका में शीर्ष अदालत से भटिंडा के जिला न्यायाधीश को सुरक्षा उल्लंघन से संबंधित पूरे रिकॉर्ड को अपने कब्जे में लेने का निर्देश देने की गुहार लगाई है।

प्रधानमंत्री की सुरक्षा मामले में पंजाब सरकार ने बनाई जांच कमेटी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का काफिला फंसने के मामले में अब कांग्रेस और भाजपा आमने-सामने आ गई है। इस बीच भारतीय किसान यूनियन क्रांतिकारियों का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें प्रदर्शनकारी सड़क पर लगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पोस्टर फाड़ते दिख रहे हैं। इस बीच पंजाब सरकार ने जांच के लिए उच्च स्तरीय कमेटी का गठन किया है। दरअसल, वायरल वीडियो में प्रदर्शनकारी प्रधानमंत्री का पोस्टर फाड़ते दिख रहे हैं। इसके बाद सवाल उठने लगा है कि क्या प्रदर्शनकारियों को पहले से पता था कि प्रधानमंत्री का काफिला कहां से गुजरने वाला है। इस पूरे घटनाक्रम के बाद पंजाब सरकार ने चूक की जांच के लिए उच्च स्तरीय कमेटी का गठन किया है। समिति में रिटायर्ड जज मेहताब सिंह गिल, प्रमुख सचिव (गृह मामलों) और न्यायमूर्ति अनुराग वर्मा को शामिल किया गया है। कमेटी 3 दिनों के भीतर अपनी रिपोर्ट पेश करेगी।

5 बड़े सवाल आ रहे हैं सामने :

1. पीएम का रूट जानबूझकर लीक किया गया ?
2. पीएम के पहुंचने से पहले रास्ता कैसे ब्लॉक हुआ ?
3. प्रदर्शनकारियों को कैसे पता चला पीएम यहीं से गुज़रेंगे ?
4. पुलिस प्रदर्शनकारियों को रोक क्यों नहीं पाई ?
5. पीएम के काफिले को झूठा क्लीयरेंस क्यों दिया ?

प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक को भाजपा ने बेहद गंभीर बताया है, जबकि केंद्रीय गृह मंत्रालय भी काफी सख्त है। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि जब ये कोई नहीं जानता की प्रधानमंत्री का काफिला कहां से गुजरेगा। इसकी जानकारी केवल सुरक्षा बलों को ही जानकारी होती है, लेकिन वहां फ्लाईओवर पर लोग क्या कर रहे थे। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पंजाब सरकार से इस मामले में रिपोर्ट मांगी है। बता दें कि तीन कृषि कानूनों को वापस लेने के बाद प्रधानमंत्री का पहला पंजाब दौरा था, लेकिन फिरोज़पुर के फ्लाईओवर पर 20 मिनट फंसे रहने के बाद प्रधानमंत्री लौट गए।

‘सीएम को धन्यवाद कहना, मैं जिंदा लौट पाया’

प्रधानमंत्री मोदी ने बठिंडा एयरपोर्ट में सुरक्षा अधिकारीयों से कहा कि सीएम को धन्यवाद कहना, मैं जिन्दा लौट पाया। दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पंजाब में होने वाली रैली बुधवार को सुरक्षा कारणों से रद्द कर दी गई। सड़क मार्ग से रैली स्थल जा रहे प्रधानमंत्री करीब 20 मिनट फ्लाइओवर पर फंसे रहे। गृह मंत्रालय ने इसे प्रधानमंत्री की सुरक्षा में बड़ी चूक मानते हुए पंजाब सरकार से रिपोर्ट मांगी है। ऐसा पहली बार नहीं है जब चुनावी रैली में हुई सुरक्षा चूक का मामला केंद्र-राज्य की लड़ाई में नहीं बदला हो। बंगाल चुनाव के दौरान भी ऐसा देखा गया था। बठिंडा एयरपोर्ट पर पीएम ने अफसरों से कहा कि अपने सीएम को धन्यवाद कहना कि मैं जिंदा लौट पाया। वहीं सूत्रों के अनुसार, पंजाब सरकार ने फिरोजपुर और फरीदकोट के एसएसपी निलंबित कर दिए हैं। हालांकि अभी इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है। गृह मंत्रालय ने इस मामले में पंजाब सरकार से रिपोर्ट मांग ली है। इसके अलावा भाजपा प्रधान जेपी नड्डा ने ट्वीट कर पंजाब सरकार पर बड़े सवाल उठाए हैं।

नड्डा ने कहा कि यह दुख की बात है कि पंजाब के लिए हजारों करोड़ की विकास परियोजनाओं को शुरू करने के लिए पीएम का दौरा बाधित हो गया। राज्य पुलिस को लोगों को रैली में शामिल होने से रोकने के निर्देश दिए गए। मुख्यमंत्री चन्नी पर आरोप लगाते हुए नड्डा ने कहा कि इस दौरान चन्नी ने फोन पर बात करने या इसे हल करने से इनकार कर दिया। नड्डा ने कहा कि ऐसा करने में पंजाब सरकार ने इस बात की भी परवाह नहीं की कि पीएम को भगत सिंह और अन्य शहीदों को श्रद्धांजलि देनी है और प्रमुख विकास कार्यों की आधारशिला रखना है।पंजाब की कांग्रेस सरकार ने दिखा दिया है कि वे विकास विरोधी हैं और स्वतंत्रता सेनानियों के लिए भी उनके मन में कोई सम्मान नहीं है। हार के डर से पंजाब की कांग्रेस सरकार ने पीएम को रोकने के लिए हर संभव हथकंडा आजमाया।

सड़क मार्ग से फिरोजपुर जा रहे थे प्रधानंमत्री

गृह मंत्रालय के मुताबिक प्रधानमंत्री मोदी खराब मौसम की वजह से सड़क मार्ग से फिरोजपुर जा रहे थे। रास्ते में प्रदर्शनकारियों ने सड़क को जाम कर दिया। इस वजह से प्रधानमंत्री का काफिला करीब 20 मिनट फ्लाइओवर पर फंसा रहा। गृह मंत्रालय ने कहा कि पंजाब के हुसैनीवाला में राष्ट्रीय शहीद स्मारक से लगभग 30 किलोमीटर दूर ये सब हुआ।

बारिश के कारण सड़क मार्ग से निकले थे प्रधानमंत्री

पंजाब में हुई सुरक्षा चूक पर गृह मंत्रालय का कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी आज सुबह बठिंडा पहुंचे। यहां से उन्हें हेलिकॉप्टर से हुसैनीवाला स्थित राष्ट्रीय शहीद स्मारक जाना था। बारिश और खराब दृश्यता के कारण उन्होंने ने लगभग 20 मिनट तक मौसम साफ होने का इंतजार किया। जब मौसम में सुधार नहीं हुआ, तो यह तय किया गया कि प्रधानमंत्री सड़क मार्ग से जाएंगे। डीजीपी पंजाब पुलिस ने जब सुरक्षा व्यवस्था की पुष्टि की उसके बाद प्रधानमंत्री का काफिला सड़क मार्ग से निकला। रास्ते में एक फ्लाईओवर पर कुछ प्रदर्शनकारियों ने सड़क को रोक दिया। इस वजह से प्रधानमंत्री मोदी 15-20 मिनट फ्लाईओवर पर फंसे रहे। प्रधानमंत्री की सुरक्षा में यह बड़ी चूक है।

गृह मंत्रालय ने मांगी पंजाब सरकार से रिपोर्ट

गृह मंत्रालय का कहना है कि वह इस गंभीर सुरक्षा चूक का संज्ञान ले रहा है और राज्य सरकार से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। राज्य सरकार को भी इस चूक की जिम्मेदारी तय करने और सख्त कार्रवाई करने को कहा गया है। वहीं, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि पंजाब के लिए हजारों करोड़ की विकास परियोजनाओं को शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री का दौरा बाधित हो गया। राज्य पुलिस को लोगों को रैली में शामिल होने से रोकने के निर्देश दिए गए। मुख्यमंत्री चन्नी ने फोन पर बात करने या इसे हल करने से इनकार कर दिया।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: