BalliaNational

NDA की पासिंग आउट परेड में बोले सेना प्रमुख, भारतीय सशस्त्र बल दुनिया के किसी भी देश से पीछे नहीं

थल सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने कहा कि आने वाले वर्षों में युद्ध का चरित्र बदलता दिखाई दे रहा है, इसीलिए एक महत्वपूर्ण और प्रमुख निर्णय के तहत भारतीय सेनाओं के आधुनिकीकरण और थिएटर कमांड्स बनाने की प्रक्रिया तेजी के साथ चल रही है लेकिन अभी इसमें कुछ समय लगेगा।

पुणे में राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) के 141वें कोर्स की पासिंग आउट परेड को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सेना ने महिला कैडेटों के लिए एनडीए के द्वार खोले हैं, जिसके बाद उम्मीद है कि आप सभी उनका स्वागत उसी निष्पक्ष और व्यावसायिकता के साथ करेंगे, जैसा कि भारतीय सशस्त्र बलों को दुनिया भर में जाना जाता है।। सेना प्रमुख ने कहा कि जहां तक सशस्त्र बलों में प्रौद्योगिकी को शामिल करने का सवाल है तो हम दुनिया के किसी भी देश की तुलना में पीछे नहीं हैं।

सशस्त्र बलों में नई तकनीकों को किया गया शामिल

इस परेड में 305 कैडेट शामिल हुए, जिन्होंने एनडीए से स्नातक की उपाधि प्राप्त की, जिसमें 19 मित्रवत विदेशी देशों से शामिल हैं। सेना प्रमुख ने कहा कि युद्धों के बदलते स्वरूप को देखते हुए सशस्त्र बलों में नई तकनीक को शामिल किया जा रहा है। इसीलिए भारतीय सेनाओं का पुनर्गठन किये जाने के तहत थियेटर कमांड बनाने की प्रक्रिया चल रही है। सेना प्रमुख ने इस तथ्य को भी साझा किया कि भारतीय सेना सरकार के ‘आत्मनिर्भर भारत’ के दृष्टिकोण में योगदान देने के लिए अधिकांश प्रौद्योगिकी और उपकरण भारतीय कंपनियों से खरीद रही है।

कैडेटों को संबोधित करते हुए सेना प्रमुख ने युद्ध की बदलती प्रकृति से निपटने के लिए अकादमी से पास आउट होने के बाद भी व्यावसायिक शिक्षा के माध्यम से लगातार ज्ञान प्राप्त करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कैडेट्स का आह्वान किया कि वे युद्ध का चरित्र बदलने वाली उन्नत प्रौद्योगिकियों के बारे में नियमित व्यावसायिक शिक्षा के माध्यम से खुद को अपडेट रखें। चल रही थिएटर प्रक्रिया के बारे में विवरण साझा करते हुए उन्होंने कहा कि तीन सेनाओं में से हम अधिकांश मुद्दों को हल करने में सक्षम हैं। तीनों सेनाएं एकीकृत होने के बाद संयुक्त रूप से बड़ा बदलाव ला सकती हैं।

उन्होंने उम्मीद जताई कि हम अपनी मौजूदा सेवाओं की बेहतर दक्षता और उपयोग सुनिश्चित करके भविष्य में मुकाबले के लिए बेहतर तरीके से तैयार होंगे। सेना प्रमुख ने कहा कि हमें भूमि-आधारित थिएटरों पर ध्यान देना होगा, जो पूर्वी और पश्चिमी थिएटर होंगे। इसकी अंतिम संरचना प्रारंभिक संगठन बनने के बाद ही विकसित होगी और इसमें कुछ समय लगेगा। उन्होंने वायुसेना की ओर इशारा करते हुए कहा कि यहां एक एजेंसी को नियंत्रित करने और यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि वायु प्रबंधन फ्रेट्रिकाइड की ओर न ले जाए। फिर हमारे पास हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्र तट और उच्च समुद्र के साथ एक बड़ी सीमा है। इसलिए हमें यह भी सुनिश्चित करने की जरूरत है कि हमारे पास उसकी देखरेख करने वाला एक संगठन होना चाहिए।

राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के छात्र रहे हैं जनरल नरवणे

जानकारी के लिए बता दें कि जनरल नरवणे 42 साल पहले इसी राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के छात्र रहे हैं और वे इसी तरह की पासिंग आउट परेड कैडेट के रूप में खड़े थे। इस दौरान अपने समय को याद करते हुए उन्होंने कहा कि आज वे पासिंग आउट परेड की समीक्षा करते समय खुद को बहुत सम्मानित महसूस कर रहे हैं। एनडीए की यह चौथी पासिंग आउट परेड थी, जो सख्त कोरोना मानदंडों के तहत आयोजित की गई। कोरोना महामारी प्रतिबंधों के कारण अकादमी ने पिछली तीन परेडों में भी कैडेट्स के माता-पिता, मेहमानों और मीडिया को आमंत्रित नहीं किया।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: