Politics

बसपा के चुनावी फोल्‍डर की योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री ने खोली पोल

योगी सरकार में गन्‍ना किसानों को बसपा सरकार के मुकाबले दोगुना भुगतान - सिद्धार्थ नाथ

लखनऊ : चुनाव से पहले फोल्‍डर जारी कर उपलब्धियां गिनाने की कोशिश कर रही बसपा पर योगी सरकार के प्रवक्‍ता और कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बुधवार को जोरदार हमला किया। बसपा के चुनावी फोल्‍डर की पोल खोलते हुए सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि गन्‍ना मिलों का सौदा कर किसानों के साथ धोखाधड़ी करने वाले भी चुनाव देख किसान हितों की दुहाई दे रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि योगी सरकार ने किसानों के विकास और उन्‍हें आर्थिक रूप से मजबूत बनाने के लिए सबसे अधिक काम किया है। बसपा सरकार से दोगुना गन्‍ना किसानों को भुगतान किया गया है।

कैबिनेट मंत्री ने कहा कि योगी सरकार के कार्यकाल की शुरुआत ही किसान हित के सबसे बड़े कदम से हुई । सीएम योगी ने पहली कैबिनेट बैठक में 86 लाख किसानों के 36 हजार करोड़ रुपये का ऋण मोचन कर उन्‍हें सबसे बड़ी सौगात दी। प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान निधि और फसल बीमा योजना से लेकर रिकार्ड कृषि उत्‍पादन और देश में सबसे ज्‍यादा अनाज खरीद का रिकार्ड सामने है। 48 घंटे के भीतर किसानों के अनाज का भुगतान उनके खातों में हो रहा है ।

उन्‍होंने कहा कि बसपा सरकार में भटकने को मजबूर गन्‍ना किसानों को रिकार्ड भुगतान कर योगी सरकार ने उन्‍हें आर्थिक रूप से मजबूती दी है। सरकार ने लगभग 46.74 लाख गन्‍ना किसानों को 145000 करोड रुपये का भुगतान किया है । यह बसपा सरकार से दोगुना और सपा सरकार के कार्यकाल में किए गए गन्‍ना भुगतान के मुकाबले डेढ़ गुना अधिक है। वर्षों से मंडियों पर काबिज दलालों और बिचौलियों को खरीद प्रक्रिया से बाहर करते हुए 72 घंटे में किसानों के खातों में सीधा भुगतान किया।

कैबिनेट मंत्री ने कहा कि पिछली सरकारों में बंद होती चीनी मिलों को भाजपा सरकार में न सिर्फ दोबारा शुरू कराया गया बल्कि यूपी को देश में चीनी उत्‍पादन में नंबर वन बना दिया । देश में 47% चीनी का उत्पादन यूपी में हो रहा है और गन्ना सेक्टर का प्रदेश की जीडीपी में 8.45 प्रतिशत एवं कृषि क्षेत्र की जीडीपी में 20.18 प्रतिशत का योगदान है। लॉकडाउन के दौरान भी प्रदेश में एक भी चीनी मिल बंद नहीं हुई। सभी 119 चीनी मिलों में उत्‍पादन जारी रहा ।

37 मंडियों में 1.85 लाख मीट्रिक टन भंडारण क्षमता का विस्तार कर 45 कृषि उत्पादों को मंडी शुल्क से जोड़ा गया। 27 मंडियों को आधुनिक किसान मंडी के रूप में विकसित किया गया। 24 मंडियों में कोल्ड स्टोरेज और राइपनिंग चैम्बर्स का निर्माण कराया गया। सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि बसपा प्रमुख को यह समझना होगा कि यूपी की जनता काम पर वोट देती है, न कि कोरी बयानबाजी और झूठे फोल्‍डर जारी करने पर।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close