Sports

Tokyo Paralympics : हादसे के बाद छोड़नी पड़ी कुश्ती और मिला जैवलिन का साथ, आज रच दिया विश्व कीर्तिमान

टोक्यो पैरालंपिक में भारत के जैवलिन थ्रो गोल्ड मेडल विजेता बने सुमित अंतिल का जीवन बहादुरी, हौंसले और जज्बे की मिसाल है। टोक्यो पैरालंपिक में 68.55 मीटर दूर भाला फेंक विश्व कीर्तिमान बनाने वाले सुमित से न केवल दिव्यांग बल्कि सामान्य युवाओं के लिए भी प्रेरणा बन गए हैं। सुमित की इस उपलब्धि के लिए हरियाणा सरकार 6 करोड़ की पुरस्कार राशि देगी।

जैवलिन थ्रो में जीता गोल्ड मेडल

सुमित अंतिल सोनीपत के गांव खेवड़ा के रहने वाले हैं। गांव खेवड़ा में जश्न का माहौल है। सुमित ने सोमवार को पुरुषों (एफ 64 वर्ग) के फाइनल मुकाबले में स्वर्ण पदक जीत लिया है। सुमित की इस जीत के साथ ही भारत के मेडल की संख्या सात हो गई है। सुमित अंतिल का यह थ्रो वर्ल्ड रिकॉर्ड बन गया है। टोक्यो पैरालंपिक में भारत का ये दूसरा स्वर्ण पदक है।

हादसे की वजह से छूटी कुश्ती

सुमित के पिता रामकुमार एयरफोर्स में थे, उनका निधन हो चुका है, मां निर्मला गृहिणी हैं।
सुमित पहले कुश्ती करता थे, लेकिन एक सड़क दुर्घटना में इसकी टांग कटने के कारण अपने खेल को बदलना पड़ा। सुमित का जुनून आज औरों के लिए मिसाल बन गया। उसने बता दिया कि किस प्रकार से जिंदगी के अंदर एक शानदार प्रदर्शन करके अपने आपको दूसरों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत बना सकते हैं।

कोच ने प्रदर्शन पर जताई खुशी

मात्र 23 साल की उम्र के अंदर सुमित ने बहुत ही शानदार तरीके से अपने खेल का प्रदर्शन किया और भारत को स्वर्ण पदक दिलाया। सुमित अंतिल के कोच वीरेंद्र फौजी अपने शिष्य की उपलब्धि को देखकर फूले नहीं समा रहे हैं। कोच वीरेंद्र ने कहा है कि सोनीपत में उसको प्रशिक्षण दिया आज उसने अपनी मेहनत से देश का नाम पूरे विश्व में रोशन किया।

विश्व रिकॉर्ड बनाने वाले सुमित को 6 करोड़ का इनाम

वहीं हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने टोक्यो में चल रहे पैरालम्पिक खेलों में भाला फेंक में विश्व रिकॉर्ड बनाते हुए स्वर्ण पदक जीतने पर सुमित अंतिल और डिस्कस थ्रो एफ-56 में रजत पदक जीतने पर योगेश कथुनिया को क्रमश: छह करोड़ और चार करोड़ रुपये की पुरस्कार राशि देने की घोषणा की है। दोनों को हरियाणा सरकार सरकारी नौकरी भी देगी।

सीएम ने कहा- हिंदुस्तान का दिल जीत लिया

सीएम ने कहा कि सुमित अंतिल ने टोक्यो पैरालम्पिक में भाला फेंक खेल में वर्ल्ड रिकॉर्ड के साथ स्वर्ण पदक जीतकर हरियाणा वासियों के साथ-साथ पूरे हिंदुस्तान का दिल जीत लिया है।सुमित के जज्बे को सलाम करते हुए उनके इस ऐतिहासिक प्रदर्शन पर उन्हें बधाई एवं शुभकामनाएं दीं।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close