National

रेल मंत्रालय ने निःशुल्‍क भोजन वितरण में आज 3 मिलियन का आंकड़ा पार किया

कोविड-19 के कारण जारी लॉकडाउन के दौरान देश भर में लगभग 300 स्‍थानों पर भोजन वितरित किया गया

नई दिल्ली । कोविड-19 के कारण राष्‍ट्रीय लॉकडाउन के दौरान भारतीय रेलवे की ओर से देश भर में किए जा रहे निःशुल्क गर्म पके हुए भोजन के वितरण ने आज 3 मिलियन का आंकड़ा पार कर लिया। 20 अप्रैल 2020 को भारतीय रेल की ओर से किए जा रहे इस वितरण में 2 मिलियन का आंकड़ा पार कर लिया गया था, जबकि पिछले 10 दिनों में ही इसने निःशुल्क भोजन वितरित करने में 1 मिलियन का आंकड़ा पार कर लिया है।

वैश्विक महामारी ने अभूतपूर्व परिस्थितियां उत्‍पन्‍न की हैं, जिससे बड़ी संख्या में लोगों के समक्ष भूख का संकट उत्‍पन्‍न हो गया है। फंसे हुए व्यक्ति, दिहाड़ी मजदूर, प्रवासी, बच्चे, कुली, बेघर, गरीब और घुमंतु लोग जो अस्‍थायी आबादी का निर्माण करते हैं वे इस महामारी और लॉकडाउन से सबसे बुरी तरह प्रभावित हुए हैं।

कोविड-19 के कारण लॉकडाउन के बाद 28 मार्च 2020 से कई रेलवे संगठनों के भारतीय रेलवे कर्मचारियों ने जरूरतमंद लोगों को गर्म पका हुआ भोजन उपलब्ध कराने के लिए अथक परिश्रम किया है। रेलवे आईआरसीटीसी बेस किचन, आरपीएफसंसाधनों और गैर सरकारी संगठनों के योगदान के माध्यम से पेपर प्‍लेट्स के साथ दोपहर का भोजन और रात के भोजन के लिए खाने के पैकेटों सहित बड़े पैमाने पर पका हुआ भोजन उपलब्‍ध करा रहा है। जरूरतमंद व्यक्तियों को भोजन वितरित करते समयसामाजिक दूरी और स्वच्छता का ध्‍यान रखा जा रहा है।

रेलवे स्टेशनों के आसपास के क्षेत्रों और उसके नजदीकी क्षेत्रों के जरूरतमंद लोगों की भोजन संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिएआरपीएफ, जीआरपी, जोन्‍स के वाणिज्यिक विभागों, राज्य सरकारों, जिला प्रशासन और गैर सरकारी संगठनों के सहयोग से भोजन का वितरण किया जा रहा है।

विभिन्न जोनों जैसे- पश्चिमी, पूर्वी, दक्षिणी और दक्षिण मध्य में फैले नई दिल्ली, बैंगलुरु, हुबली, मुंबई सेंट्रल, अहमदाबाद, भुसावल, हावड़ा, पटना, गया, रांची, कटिहार, दीन दयाल उपाध्याय नगर, बालासोर, विजयवाड़ा, खुर्दा, काटपाडी, तिरुचिरापल्ली, धनबाद, गुवाहाटी, समस्तीपुर, प्रयागराज, इटारसी, विशाखापट्टनम, चेंगलपट्टू, पुणे, हाजीपुर, रायपुर और टाटानगर उत्तरी क्षेत्रों  में आईआरसीटीसीबेस किचन के सक्रिय सहयोग से30 अप्रैल 2020 तक 30 लाख से अधिक पके हुए भोजन वितरित किए जा चुके हैं।

इनमें से लगभग 17.17 लाख पके हुए भोजन आईआरसीटीसी द्वारा प्रदान किए गए हैं, लगभग 5.18 लाख भोजन आरपीएफ द्वारा अपने स्वयं के संसाधनों से प्रदान किए गए हैं, लगभग 2.53 लाख भोजन रेलवे के वाणिज्यिक और अन्य विभागों द्वारा प्रदान किए गए हैं और लगभग 5.60 लाख भोजन रेलवे संगठनों के साथ काम करने वाले एनजीओ द्वारा दान किए गए हैं।

आईआरसीटीसी, अन्य रेलवे विभागों, गैर सरकारी संगठनों और अपने स्वयं के किचन से तैयार किए गए भोजन को जरूरतमंद लोगों में वितरित करने में रेलवे सुरक्षा बल ने प्रमुख भूमिका निभाई है। यह सिलसिला 28.03.2020 को 74 स्थानों पर 5419 जरूरतमंद व्यक्तियों को भोजन के वितरण के साथ शुरू हुआ और फिर इसकीसंख्या दैनिक आधार पर बढ़ती गई। वर्तमान में देश भर में लगभग 300 स्थानों पर प्रतिदिन लगभग 50000 लोगों को आरपीएफ द्वारा भोजन उपलब्‍ध कराया जा रहा है।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close