Uttar Pradesh

दवाओं के साथ इम्यूनिटी बूस्टर आयुर्वेदिक काढ़ा एवं होम्योपेथिक दवाएं निःशुल्क उपलब्ध

शहरी क्षेत्र में संचालित की जा रही मोबाइल वार्ड क्लीनिक से केवल कोरोना से मिलते जुलते लक्षणों वाले व्यक्तियों की होगी पहचान न कि कोरोना की सैंपलिंग, जांच एवं इलाज* साथ ही मोबाइल वार्ड क्लीनिक से गंभीर रोगों, संचारी रोगों एवं मौसमी रोगों इत्यादि पर भी दिया जाएगा निःशुल्क चिकित्सीय परामर्श* आयुर्वेदिक एवं होम्योपेथिक चिकित्सकों की भी की गयी है व्यवस्था .

वाराणसी । मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ0वी0बी0 सिंह ने वाराणसी शहरी क्षेत्र में गत 16 जुलाई से संचालित मोबाइल वार्ड क्लीनिक के बारे में स्पष्ट करते हुये कहा कि मोबाइल वार्ड क्लीनिक शहरी क्षेत्रवासियों को उनके मोहल्ले में ही स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ प्रदान करने के उद्देश्य से संचालित की जा रही हैं। इसके माध्यम से मेडिकल टीमों द्वारा केवल कोरोना से मिलते जुलते लक्षण जैसे खांसी, बुखार, सांस लेने में तकलीफ इत्यादि से पीड़ित व्यक्तियों की पहचान करके उन्हें आगे कोरोना की पुष्टि हेतु नजदीकी चिकित्सालयों में भेजकर अथवा नमूना जांच के लिए अलग से गठित मोबाइल मेडिकल टीमों द्वारा उनका समय से जांच निश्चित कराना साथ ही रिपोर्ट पॉज़िटिव आने पर इलाज के लिए संबन्धित चिकित्सालयों में शीघ्रताशीघ्र रेफर करना है, न कि कोरोना की पुष्टि हेतु नमूनों की जांच करना और इलाज करना।
उन्होंने बताया कि कोरोना की जांच के नमूने चिकित्सालयों में तथा अलग से गठित मोबाइल मेडिकल टीमों द्वारा संग्रह किए जाते हैं और लैब में उनका परीक्षण कराया जाता है। कोरोना पॉज़िटिव मरीजों का इलाज भी निर्धारित चिकित्सालयों में किया जाता है। वर्तमान में ए.सिम्प्टोमेटिक बिना लक्षण वाले ऐसे मरीज जो आर्थिक रूप से सम्पन्न एवं इलाज पर आने वाले खर्च को वहन करने में सक्षम हैं, उनके लिए सारनाथ स्थित मैरिडियन तथा मैदागिन चौराहा स्थित मिडविन निजी हॉस्पिटल एवं चिकित्सक एवं पैरा मेडिकल कर्मियों की सुविधाओं सहित नदेसर स्थित गुप्ता इन होटल भी चिन्हित किए गए हैं। कोविड पॉज़िटिव मरीजों के होम आइसोलेशन अथवा कहीं अन्यत्र इलाज के लिए प्रावधान नहीं किया गया है। उन्होंने बताया कि जो व्यक्ति डायबिटीज़, हाईपरटेंशन, हृदय, किडनी, टीबी इत्यादि गंभीर रोगों से ग्रसित हैं और इन बीमारियों का इलाज पहले से करा रहे हैं, उन्हें तत्काल स्वास्थ्य लाभ प्रदान करने के उद्देश्य से उनके स्वास्थ्य का भी परीक्षण मोबाइल वार्ड क्लीनिक के चिकित्सकों द्वारा किया जा रहा है और समुचित परामर्श प्रदान करते हुये उन्हें आवश्यकतानुसार निःशुल्क दवाओं की व्यवस्था की गयी है। वर्तमान मौसम में वायरल बुखार एवं संचारी रोगों के प्रकोप का भी खतरा बढ़ जाता है। इसको दृष्टिगत रखते हुये मोबाइल वार्ड क्लीनिक के चिकित्सकों द्वारा मलेरियाए डेंगू, चिकनगुनिया, फ़ाईलेरिया, कालाजार इत्यादि मच्छरध्मक्खी जनित रोगों से ग्रसित व्यक्तियों का भी लक्षणों के आधार पर पहचान करते हुये आवश्यकतानुसार निःशुल्क दवाओं की व्यवस्था सुनिश्चित की गयी है। गंभीर रोगियों को अग्रिम जांच एवं इलाज के लिए नजदीकी चिकित्सालयों में रेफर किया जाएगा, ताकि उनका त्वरित जांच एवं उपचार समय से सुनिश्चित हो सके। मोबाइल वार्ड क्लीनिक में शुगर, रक्तचाप, शरीर के तापमान, ऑक्सीज़न के स्तर की निःशुल्क जांच की भी व्यवस्था की गयी है। दवाएं निःशुल्क उपलब्ध हैं।आयुर्वेदिक एवं होम्योपेथिक चिकित्सकों की भी व्यवस्था की गयी है।
रेड क्रॉस सोसाइटी के सचिव डॉ संजय राय ने बताया कि जनपद के आयुर्वेदिक एवं होम्योपेथिक विभाग की देखरेख में इंडियन रेड क्रॉस सोसाइटी के द्वारा इम्यूनिटी बूस्टर आयुर्वेदिक काढ़ा एवं होम्योपेथिक दवाएं भी निःशुल्क उपलब्ध कराई जा रही है। उन्होंने बताया कि संचालित मोबाइल वार्ड क्लीनिक की व्यवस्था इसलिए की गयी है ताकि कोविड महामारी के दृष्टिगत तात्कालिक चिकित्सीय परामर्श एवं उपचार के लिए लोगों को इधर.उधर भटकना न पड़े और नागरिकों को उनके क्षेत्र में ही स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ मिल सके। साथ ही यदि कोरोना से मिलते जुलते लक्षण वाले व्यक्ति सामने आते हैं तो उन्हें अलग से चिन्हित करते हुये उन्हें तत्काल नजदीकी चिकित्सालय में रेफर कर अथवा नमूना जांच के लिए गठित मोबाइल मेडिकल टीमों द्वारा शीघ्रता.शीघ्र उनके नमूनों की जांच कराई जा सके और परिणाम पॉज़िटिव आने पर उनके तत्काल इलाज की व्यवस्था भी समय से सुनिश्चित की जा सके। इससे एक तरफ जहां पॉज़िटिव मरीजों के त्वरित उपचार में तेजी आएगी वहीं दूसरी तरफ पॉज़िटिव मरीजों द्वारा अन्य व्यक्तियों तक कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने में मदद मिलेगी।
Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close