National

पटना एम्स में कोरोना वैक्सीन का मानव ट्रायल शुरू

डॉक्टरों को 194 दिनों में परिणाम सुखद आने की पूरी उम्मीद

अजीत मिश्र
पटना।लगातार बढ़ती जा रही कोरोना महामारी के चलते आज भारत सहित पूरा विश्व चिंतित है।इस महामारी ने असमय लाखों लोगों को निगल लिया है।हमारे देश में भी हजारों लोग इस महामारी से काल के ग्रास बन चुके हैं।इस बीच बिहार की राजधानी पटना से बहुत बड़ी खबर है कोरोना वायरस से बचाव के लिए वैक्सीन का मानव परीक्षण पटना के ऑल इंडिया इंस्‍टीच्‍यूट ऑफ मेडिकल साइंस एम्स में बुधवार को शुरू कर दिया गया। इसके लिए एम्‍स के पांच कर्मियों सहित 20 मरीज कोरोना योद्धा के रूप में सामने आए हैं। मानव परीक्षण के परिणाम अगले 194 दिनों की अवधि में सामने आ जाएंगे। मानव परीक्षण के लिए चुने गए लोगों की स्‍वास्‍थ्‍य जांच व अन्‍य औपचारिकताएं सोमवार से ही शुरू कर दी गईं थीं।

परीक्षण के लिए अब तक सौ से अधिक लोगों के फोन आए थे जिनमें से इतने लोगों को चुना गया है। पटना एम्स के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. सीएम सिंह के नेतृत्व में पांच सदस्यीय टीम मानव परीक्षण का अध्ययन करेगी। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के दिशा-निर्देश के अनुसार यह अध्ययन 194 दिनों में पूरा होगा।टीम में हिंदुस्तान बायोटेक के सदस्यों के साथ एम्स के डॉ. रवि कीर्ति, डॉ. संजय पांडेय और डॉ. शमशाद शामिल हैं।चिकित्सा अधीक्षक के अनुसार पहले डोज के बाद दो घंटे तक विशेषज्ञों की पांच सदस्यीय टीम गहन मॉनिटरिंग करेगी। इसके बाद सभी को घर भेज दिया जाएगा।

दूसरी ओर फिर चार दिनों बाद रिसर्च टीम उनके घर जाकर परीक्षण करेगी। यदि सब अनुकूल रहा तो 14 दिनों बाद दूसरा डोज दिया जाएगा। इसमें भी सब सामान्य रहा तो 28 दिन बाद पुन: दवा के प्रभाव-दुष्प्रभाव का आकलन किया जाएगा। इसके बाद 104वें और 194वें दिन रिसर्च टीम पुन: दवा के प्रभाव का अध्ययन कर अपनी रिपोर्ट देगी। यानी 14, 28, 104 और 194 दिनों के अंतराल पर मिली रिपोर्ट आइसीएमआर को भेजी जाएगी। इसी आधार पर वैक्सीन को हरी झंडी दिए जाने का निर्णय लिया जाएगा। उनका कहना है कि यह वैक्सीन निष्क्रिय है, इसलिए दुष्प्रभाव की कोई आशंका नहीं के बराबर है।

जानवरों पर किए गए प्रयोग में विज्ञानियों को कोई घातक प्रतिक्रिया नहीं मिली है। फिर भी प्रोटाकॉल के तहत किसी भी प्रकार के जोखिम की स्थिति में हर प्रावधान किए गए हैं। बताते हैं कि इसके परीक्षण की प्रक्रिया तीन चरणों में संपन्न होगी। प्रथम चरण में 18 से 55 वर्ष तक के देश भर के 375 लोग शामिल होंगे। एम्स, पटना में करीब 50 लोगों को वैक्सीन का हल्का डोज देकर उनकी सतत निगरानी की जाएगी। परिणाम सकारात्मक रहा तो दूसरे चरण में 12 से 65 वर्ष के 750 लोग शामिल होंगे। इनमें एम्स, पटना में करीब 100 लोगों को रैंडमली डबल डोज दिया जाएगा। तीसरे चरण में यह देखा जाएगा कि वैक्सीन से शरीर में किस स्तर का एंटीबॉडी विकसित हुआ है। यदि यह पर्याप्त रहा तो उस व्यक्ति को वायरस के संपर्क में लाया जाएगा। यदि शरीर वायरस से संक्रमित नहीं होता है तो वैक्सीन का उत्पादन शुरू किया जा सकता है।कोरोना संक्रमण के दौर में पटना से यह राहत देनेवाली बहुत बड़ी खबर कही जाएगी।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close