CrimeUttar Pradesh

बलिया में आकाशीय बिजली से चार की मौत, दो मवेशी भी मरे, पांच लोग झुलसे

blankबलिया: जनपद के अलग अलग तहसील क्षेत्र में मंगलवार को आकाशीय बिजली गिरने से चार लोगों की मौत हो गई। जबकि पांच लोग गंभीर रूप से झुलस गए। वहीं दो बकरी मवेशी की भी मौत हो गई। इंदरपुर के समीप कुरेजी गांव में मंगलवार की शाम करीब साढ़े पांच बजे के आसपास बकरी चराते समय आकाशीय बिजली गिरने से मंगरू पुत्र लल्लन राजभर (5) व नीसू (4) पुत्री मुन्ना राजभर की मौत हो गयी। जबकि एक अन्य बालिका नीतू राजभर (5) पुत्री मुन्ना राजभर गंभीर रूप से झुलस गई। वहीं दो बकरियों की भी मौके पर मौत हो गयी है। इधर जनपद के बैरिया के घुरिटोला (इब्राहिमाबाद नौबरार) निवासी आसित कुमार चौधरी (17) खेत में सब्जी की रखवाली कर रहा था कि शाम लगभग 4 बजे तेज़ आवाज़ के साथ अचानक आकाशीय बिजली गिरी और मौके पर ही मौत हो गई। वहीं बिल्थरारोड तहसील के उभांव थाना के ससना बहादुरपुर गांव में मंगलवार की दोपहर साढ़े तीन बजे के आसपास आकाशीय बिजली गिरी। जिससे किन्नू राजभर (25) की मौत हो गई। जबकि मृतक के सहोदर भाई समेत अन्य चार युवक गंभीर रूप से झुलस गए। जिन्हें उपचार हेतु तत्काल सीयर सीएचसी भर्ती कराया गया। जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी। घटना के बाद गांव में कोहराम सा मच गया। उभांव थाना के ही बाराडीह गांव के मूल निवासी लाल बिहारी राजभर का पुत्र संजय उर्फ किन्नू राजभर (25), सहोदर भाई अशोक राजभर (15), प्रदीप राजभर (15) व साहिल (15) सभी मित्र पास के ससना बहादुरपुर गांव के पास बकरी चरा रहे थे। इस बीच सभी पास के शनिचरा मंदिर के समीप फरही नाला में मछली मारने लगे। अचानक तेज आवाज के साथ बिजली कड़कने लगी तो सभी मित्र एक पेड़ के पास जाकर छिप गए। जबकि एक पड़ोस के मकान की तरफ चला गया। इस बीच बारिश भी तेज हो गई। करीब 15 मिनट बाद तेज आवाज के साथ अचानक फिर बिजली गिरी और पेड़ के नीचे छिपे सभी पांच दोस्त आकाशीय बिजली की चपेट में आ गए। जिससे संजय राजभर उर्फ किन्नू राजभर की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि अन्य गंभीर रूप से झुलस गए। मृतक किन्नू के एक पुत्र व एक पुत्री है। मां मनसी देवी व पिता लाल बिहारी राजभर का रो-रोकर बुरा हाल है। वहीं मृतक का सहोदर भाई अशोक व अन्य साथियों की हालत गंभीर बनी हुई है। हादसे की खबर मिलते ही परिजनाें व गांव में कोहराम सा मच गया। मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जुट गई।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close