Sonbhadra

स्वतंत्रता सेनानी के वंशज रफीक खान की 102 वर्ष की उम्र में निधन, शोक की लहर

दुद्धी,सोनभद्र : स्वतंत्रता संग्राम सेनानी परिवार में जन्मे मोहम्मद रफीक खान नही रहे, दुद्धी नगर के जुगनू चौक वार्ड नम्बर 4 के रहने वाले मो0 रफीक खान के 102 वर्ष की उम्र में बुधवार निधन हो गया। बताते चलें कि मोहम्मद रफीक खान जुगनू चौक के करता धरता थे। मरहूम जुगनू अली खान के छः पुत्र थे, जिसमें रफीक खान चौथे नम्बर के पुत्र थे| जहां मोहम्मद हाजी डॉ हनीफ खान शास्त्री की बात की जाय तो सभी भाइयों सहित खानदान वालों को गर्व था। शास्त्री जी की पहचान बताने की जरूरत नही है उनके पहचान से क्षेत्र की जनता वाकिफ है | मोहम्मद सुखन अली खान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी रहे, मोहम्मद सुखन अली खान के पर पोते थे मोहम्मद जुगनू अली खान ,मोहम्मद रफीक खान अपने सभी भाइयो से अफजल रहे,मोहम्मद रफीक खान का जन्म सन 1921 ई0 में हुआ था कि बुद्धवार को 102 वर्ष के उम्र में चलते फिरते उनकी मौत हो गयी|

मोहम्मद रफीक खान दुद्धी तहसील में कर्मचारी रहे, उन्होंने अपने सेवाकाल के दरमियान काम के प्रति कोई कोताही नही की। वे किसी भी काम को मेहनत और लगन से काम के प्रति अपने कामों पर खरे उतरकर निर्वहन करते थे| मोहम्मद रफीक खान पैदल चलना स्वास्थ्य के लिए हितकारी समझते थे यही कारण था कि आज अपने जीवन के 102 वर्षों को जीने के बाद दुनियां वालों को अलविदा कह गये।उधर उनकी मौत की खबर सुनते ही उनके घर पर चाहने वालों की तांता लग गया|लोगों ने अंतिम दर्शन कर उनके मृत आत्मा की शांति की कामना की| मरहूम मोहम्मद रफीक खान के तीन पुत्र हैं। जिसमें मोहम्मद रज्जाक खान,मोहम्मद इशहाक खान जो कि दिल्ली दूरदर्शन में हैं, वही छोटे पुत्र इशत्याक खान उर्फ सरकार शिक्षक हैं।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: