Breaking News

सीएम ने कम्यूनिटी किचन नहीं शुरू करने वाले जिलों की सूची मांगी

कंट्रोल रूप में फोन न उठने की शिकायतों पर भी योगी गंभीर

 

डीएम खुद रोज कंट्रोल रूम का दौरा कर व्यवस्था सुनिश्चित कराएं: योगी

लखनऊ । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया कि बिना भेदभाव के हर जरूरतमंद को समय से भोजन मिलना चाहिए। जिन जिलों में अब तक कम्यूनिटी किचन शुरू नहीं हुए हैं, मुख्य सचिव आज वहां के डीएम से बात कर भोजन की उपलब्धता सुनिश्चित कराएं। इसके साथ ही संबंधित डीएम की जवाबदेही भी तय करें और मुझे भी ऐसे डीएम की सूची उपलब्ध कराएं। भोजन वितरण के कार्य में गांवों में प्रधानों के अलावा नगर निकायों में पार्षदों और अन्य कर्मचारियों की भी इसमें मदद लें। एलपीजी सिलेंडर, दवा और जरूरी सामान हर किसी को मिलनी चाहिए।

मुख्यमंत्री ने शनिवार को अपने आवास पर “टीम-11” की बैठक में कहा कि कंट्रोल रूम में अगर कोई फोन नहीं उठा रहा है तो उसके खिलाफ एफआईआर कर उसे बंद कर दें। समी जिला आपूर्ति अधिकारियों को निर्देश दें कि अगर कोई राशन नहीं मिलने की शिकायत करता है तो तुरंत उसका राशनकार्ड बनाने के साथ राशन और 1000 रुपये की मदद उस तक पहुंचाएं।
सीएम हेल्पलाइन पर जिन जिलों की शिकायतें सर्वाधिक आ रही हैं उनकी खुद निगरानी करने के साथ उनकी सूची भी मुझे उपलब्ध कराएं।

कानून तोड़ने वालों से बेहद सख्ती से पेश आएं

मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन के बावजूद सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों का जानबूझकर उल्लंघन या अराजकता फैलाना सोची-समझी साजिश है। ऐसे लोगों के साथ बेहद सख्ती से पेश आएं। तबलीगी जमात में शामिल हर किसी की धर-पकड़ करें। सबके मोबाइल जब्त कर कॉल डिटेल की जांच करें। उनके सभी सामानों की भी बारीकी से जांच करें। कुछ भी आपत्ति जनक मिलने पर उनको जब्त कर लें। जिन जगहों पर ऐसे लोग ठहरे हैं उनकी सफाई और सेनिटाइजेशन पर विशेष ध्यान दें।

मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन खुलने के बाद की कार्ययोजना पर भी विस्तार से चर्चा की। उन्होंने टाइमिंग और सोशल डिस्टेंसिंग पर विशेष ध्यान देने का निर्देश दिया। यह भी कहा कि प्रदेश की सीमाएं अंतरराष्ट्रीय, अंतरराज्यीय और अंतरजनपदीय हैं। इन जगहों से होने वाले मूवमेंट का भी ध्यान देना होगा।

लॉकडाउन से प्रदेश की अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले असर की भरपाई के लिए अभी से राज्य, जिला स्तरीय बैंकर्स से बात कर रणनीति तैयार करें। रोजगार मेला, विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना, एक जिला एक उत्पाद और माटी कला बोर्ड आदि के जरिए क्या हो सकता है इसकी भी रणनीति बना लें। ताकि हालात सामान्य होते ही इन पर अमल किया जा सके।

चेहरा ढंककर की निकलें बाहर : योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनता से अपील की कि लॉक डाउन में और लॉकडाउन खुलने पर अगर घर से बाहर निकलें तो चेहरा ढंककर के ही निकले। मास्क के साथ गमछा और दुपट्टा भी इसका विकल्प हो सकता है। सरकार का प्रयास होगा कि लॉकडाउन खुलने के पहले वह हर परिवार को दो मास्क (46 करोड़) उपलब्ध कराए। ये मास्क थ्री लेयर के खादी के होंगे। ये वाशेबल होंगे व इनका दुबारा भी प्रयोग किया जा सकता है।

मास्क के दुबारा प्रयोग के बारे में भी करें जागरूक

मुख्यमंत्री ने कहा कि मास्क निर्माण और वितरण के काम को मुहिम के तौर पर लें। लोगों को इस बाबत जागरूक करें कि जो मास्क एक दिन लगाएं उसे कायदे से धुल कर सूखाएं और दूसरे मास्क का प्रयोग करें। जरूरतमंदों को ये निशुल्क उपलब्ध कराएं और बाकी को न्यूनतम दाम पर उपलब्ध कराएं। इसके साथ ही कैसे इस योजना पर अमल होगा, अधिकारी इसकी रणनीति तैयार करें। यह सुनिश्चित कराएं कि लॉकडाउन खुलने पर जो भी बाहर निकले वह मुंह ढंककर ही निकले। मानक के अनुसार मास्क की उपलब्धता के लिए महिलाओं के सेल्फ हेल्प ग्रुप के अलावा जेल में बंद कैदियों की भी मदद लें। सबको मानक डिजाइन और कच्चा माल उपलब्ध कराकर इस काम को अभियान के रूप में चलाएं।

Related Articles

Back to top button
Close
Close