Astrology & ReligionUttar Pradesh

50 हजार लोगों ने मां विंध्यवासिनी का दर्शन पूजन किया

महामारी दूर करने वाली शीतला माई के चौखट पर नवरात्रि के पहले दिन हजारों ने टेका माथा

मिर्जापुर । नवरात्र के प्रथम दिन 50 हजार लोगों ने मां विंध्यवासिनी का दर्शन पूजन किया । सुबह मंगला आरती के बाद 4:00 बजे माँ का कपाट खोला गया । जिसके बाद कतार पद खड़े होकर भक्त दर्शन पूजन करते रहे । क्षेत्र के अखाड़ा घाट ,गोदारा घाट, बाबू घाट, दीवान घाट ,पक्का घाट, बलुआ घाट पर गंगा स्नान करने के लिए आस्थावानो की भीड़ पहुंची ।

blank

ट्रेन के न चलने से स्टेशन पर पसरा रहा सन्नाटा वही बस स्टैंड पर थोड़े बहुत देखे श्रद्धालु गयें । मां विंध्यवासिनी मंदिर की छत पर दुर्गा सप्तशती का पाठ करने के लिए दूर दराज से पंडित पहुंचे हैं । दोपहर 2:00 बजे के बाद मंदिर सन्नाटा हो गया था , जो लोग थें आराम से दर्शन पूजन कर रहें थें । पुरानी वीआईपी रोड पर टीन सेट ना होने से और सड़कों में मैट न बिछने से भक्तों को समस्या हुई । इसकों लेकर लोग नाराज भी दिखें । विंध्य पर्वत पर विराजमान काली खो एवं अष्टभुजा में भी भक्त पहुंचे और आराम से पूजा अर्चन किया । संपूर्ण मेला क्षेत्र में जगह जगह पर पुलिस की ड्यूटी एवं बैरिकेडिंग की गई है , जिससे विंध्य क्षेत्र में वाहनों की संख्या नगण्य रहीं ।

blank

महामारी दूर करने वाली शीतला माई के चौखट पर नवरात्रि के पहले दिन हजारों ने टेका माथा

blank

जौनपुर। शारदीय नवरात्रि का शुभारंभ होते ही जिले के माहौल में एक चेतना जागृत होती दिखाई देने लगी है। प्रथमा से यहां स्थित श्री मां शीतला चौकियां धाम में श्रद्धालुओं का रेला आना शुरू हो गया। सुबह से ही लगी लाइनों में खड़े होकर श्रद्धालुओं ने शीतला माता का दर्शन-पूजन‌ किया। कोरोना प्रसार के चलते कल तक लगभग सूना दिखाई देने वाले चौकियां धाम में हजारों लोगों की उपस्थिति दर्ज हुई। प्रथम दिन लगी रही लंबी लाइनों के जरिए हजारों लोगों ने शीतला माता की चौखट पर माथा टेका। महामारी और संक्रामक रोगों से रक्षा करने वाली देवी के रूप में पूजित होने वाली शीतला माई की चौखट पर लोगों ने माथा टेक कर उनसे परिवार और अपने लोगों के जीवन की रक्षा करने की याचना की। जौनपुर एवं पूर्वांचल के दूसरे जिलों विशेष रुप से ग्रामीण क्षेत्रों से आए श्रद्धालुओं ने परंपरा अनुसार चौकियां धाम क्षेत्र में कढ़ाई चढ़ाकर पूरी-हलवा का भोग शीतला माई को समर्पित किया। चौकियां धाम क्षेत्र में छोटे बच्चों के मुंडन और अविवाहित कन्याओं के विवाह हेतु वर पक्ष द्वारा देखे जाने (देखउआ) जैसी रस्में भी जगह-जगह होती दिखाई दीं।
आम लोगों के साथ-साथ खास लोगों ने भी इस पुण्य स्थल पर आकर दर्शन पूजन किया। जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने सपरिवार सुबह ही चौकियां धाम आकर विधिपूर्वक पूजन करके माता शीतला का आशीर्वाद प्राप्त किया। उन्होंने एक बार फिर कोविड-19 की महामारी से जिले के लोगों को बचाए रखने की फरियाद की। खास बात यह भी संज्ञान में आई है की कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते लगे लाॅकडाउन में भी वे जौनपुर की जनता को इस वैश्विक महामारी से बचाए रखने की गुहार करने हर हफ्ते चौकियां धाम जाते रहे हैं। विभिन्न वर्गों के लोगों ने भी सुविधानुसार चौकियां धाम आकर दर्शन पूजन किया। माता की चौखट पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराने मल्हनी उपचुनाव के कई प्रत्याशी भी परिवार और अपने करीबियों के साथ पहुंचे। गौरतलब है कि मां शीतला चौकियां धाम हमेशा से पूर्वांचल के तमाम जिलों के लोगों की आस्था का केंद्र है। मान्यता अनुसार नवरात्रि तथा अन्य मौकों पर भी विंध्याचल स्थित मां जगदंबा सहित देवी के अन्य शक्तिपीठों के दर्शन से पहले श्रद्धालु चौकियां धाम आकर मां शीतला का दर्शन-पूजन करते हैं और तत्पश्चात ही दूसरे देवी शक्तिपीठ की यात्रा आरंभ करते हैं।

 

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close