स्थानीय नागरिकों और ‘सत्या फाउण्डेशन’ की मेहनत रंग लाई, दिन में 75 डेसीबल और रात 10 बजते ही पुलिस ने बंद कराया उर्स का लाउडस्पीकर

वैसे तो सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुपालन के क्रम में शहर में अधिकाँश स्थानों पर रात 10 बजे लाउडस्पीकर स्विच ऑफ हो जाता है…

फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 7 वर्ष की कड़ी कैद और 25 हजार जुर्माने की सजा सुनाई

वाराणसी। फास्ट ट्रैक कोर्ट के न्यायाधीश प्रभात कुमार यादव की अदालत ने महिला को शादी करने का झांसा देकर गेस्ट हाउस में ले जाकर नशीला…

आरोपित उप डाकपाल बेचन राम की जमानत अर्जी सुनवाई

वाराणसी। विशेष न्यायाधीश (भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम) चतुर्थ रामचंद्र की अदालत ने कैंट डाकघर से करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी के मामले में आरोपित उप डाकपाल बेचन…

संघर्ष ने रचा इतिहास, किया 2 दिन में 10 मिलियन व्यूज पार

वर्ल्डवाइड चैनल व जीतेन्द्र गुलाटी प्रस्तुत एवं वर्ल्डवाइड रिकार्ड्स लि. कृत सुपरस्टार खेसारीलाल यादव और काजल राघवानी स्टारर भोजपुरी फिल्म संघर्ष फुल मूवी ने इतिहास…

सात साल का सश्रम सजा

वाराणसी। विशेष न्यायाधीश (पॉक्सो) आरपी त्रिपाठी की अदालत नेकिशोरी को बहला-फुसलाकर भगा ले जाने व उसके साथ दुष्कर्म करने के मामले में छितौना (चौबेपुर) निवासी…

लिटिल फ्लावर हाऊस, वाराणसी के विद्यार्थियों ने पटाखों के पूर्ण बहिष्कार का लिया संकल्प

पटाखों के खिलाफ पिछले 11 वर्षों से अभियान चलाने संस्था ‘सत्या फाउंडेशन’ ने आज सोमवार को लिटिल फ्लावर हाऊस, ककरमत्ता, वाराणसी में पटाखों के पूर्ण बहिष्कार हेतु शपथ कार्यक्रम का आयोजन किया।  विद्यार्थियों ने संकल्प लिया  कि वे दीपावली या किसी भी उत्सव-त्यौहार पर पटाखों का बिल्कुल प्रयोग नहीं करेंगे।  सत्या फाउंडेशन द्वारा आयोजित आज के इस शपथ कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए संस्था के सचिव चेतन उपाध्याय ने विद्यार्थियों को पटाखों के दुष्परिणामों के बारे में बताया।  बताया कि एक दिन के शौक के चलते पूरे 4 दिनों तक अस्थमा के मरीज छटपटाते रहते हैं और पटाखों के चलते हर साल सभी अस्पतालों के आई.सी.यू. और वार्ड फुल हो जाते हैं।  जिस पटाखे के चलते इतनी अधिक तकलीफ और साल दर साल इतनी अधिक मौतें होती हैं, वह पटाखा किसी भी धर्म का हिस्सा नहीं हो सकता। लिहाजा पटाखे को उत्सव से जोड़ने की भूल न करें।   पूर्वांचल के वरिष्ठ ह्रदय रोग विशेषज्ञ डॉ. अजय कुमार पाण्डेय (गैलैक्सी हॉस्पिटल, वाराणसी) ने वैज्ञानिक तरीके से विद्यार्थियों को समझाया कि किस प्रकार से पटाखों के चलते अस्थमा और ह्रदय के मरीजों,  नवजात शिशुओं, गर्भवती महिलाओं, वृद्धों और यहां तक कि पालतू पशु पक्षियों को परेशानी होती है।   प्रधानाचार्या श्रीमती इंदु गुलाटी ने भी अपने विचार रखे।  कार्यक्रम के अंत में  विद्यार्थियों ने शपथ ली कि वे किसी भी पारिवारिक या सामाजिक उत्सव में पटाखों का बिल्कुल प्रयोग नहीं करेंगे।  सभी ने यह भी शपथ ली कि पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध के लिए सरकार को पत्र लिखेंगे।  

वाराणसी के राजकीय क्वींस इण्टर कालेज के छात्रों ने पटाखों के पूर्ण बहिष्कार हेतु ली शपथ

वाराणसी, 22 अक्टूबर 2019  पटाखों के खिलाफ पिछले 11 वर्षों से अभियान चलाने वाली संस्था ‘सत्या फाउंडेशन’ ने आज मंगलवार को वाराणसी के राजकीय क्वींस इण्टर कालेज (Government Queen’s Intermediate College, Varanasi) में पटाखों के पूर्ण बहिष्कार हेतु शपथ कार्यक्रम (Oath for Complete Boycott of Firecrackers) का आयोजन किया।  विद्यार्थियों ने संकल्प लिया कि वे दीपावली या किसी भी उत्सव-त्यौहार पर पटाखों का बिल्कुल प्रयोग नहीं करेंगे।  ‘सत्या फाउंडेशन’ द्वारा आयोजित आज के इस शपथ कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए संस्था के सचिव चेतन उपाध्याय ने विद्यार्थियों को पटाखों के दुष्परिणामों के बारे में बताया।  बताया कि एक दिन के शौक के चलते पूरे 4 दिनों तक अस्थमा के मरीज छटपटाते रहते हैं और पटाखों से होने वाली दुर्घटनाओं के चलते हर साल सभी अस्पतालों के आई.सी.यू. और वार्ड फुल हो जाते हैं। कायदे से…

कठोर करावास की सजा

वाराणसी। आत्महत्या के लिए प्रेरित करने के मामले में अपर सत्र न्यायाधीश (द्वादश) बाबूराम की अदालत ने बेलवा गांव निवासी पति झुंना राजभर, ससुर कल्लू…

असहाय वृद्ध को सेवा कर अपना घर आश्रम पहुँचाया गया।

एक और असहाय  वृद्ध  पन्ना बाबा जी को 5 दिन दीनदयाल उपाध्याय हास्पीटल वाराणसी मे उपचार के उपरांत स्वंय अपनीी कार से आलोक टंंडन जी…

गाँधी 150 जयंती वर्षोतस्व में बेनियाबाग स्थित गाँधी चौरा की उपेक्षा से बनारस के गाँधीजन रोष में। ऐतिहासिक बेनियाबाग पार्क की सफाई और रख रखाव के लिए गाँधी जयंती याद दिलाते हुए कमिश्नर को सौंपा ज्ञापन

साझा संस्कृति मञ्च वाराणसी की ओर से मंडलायुक्त बनारस और नगर आयुक्त नगर निगम को बेनियाबाग स्थित गाँधी चौरा ( महात्मा गाँधी का अस्थि कलश…